तीन अलग-अलग जगहों पर फायरिंग के चलते अमेरिका में 11 लोगों की हुईं मौत

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp

अमेरिका में फायरिंग के चलते 11 लोगों की मौत हो गई । 12 घंटे के अंदर ही 3 अलग – अलग जगह पर फायरिंग की घटना हुई । जिसमें दो छात्र समेत 11 लोगों की मौत हो गई । उत्तरी कैलिफोर्निया में सोमवार को गनमैन ने हाफ मून बे इलाके की दो अलग-अलग जगहों पर फायरिंग की। इस हमले में 7 लोगों की मौत हो गई। जबकि 3 लोग गंभीर रूप से घायल हैं। शेरिफ ने बताया कि मास शूटिंग के बाद 67 साल के जहाओ चुनली नाम के संदिग्ध हमलावर को हिरासत में ले लिया गया है।

आयोवा में शूटिंग के बाद स्कूल से रोते हुए निकल रहे बच्चों को देखा जा सकता है।

पुलिस को यह संदिग्ध पार्किंग लॉट में अपनी कार में बैठा हुआ मिला। पुलिस ने इसके पास से हमले के दौरान इस्तेमाल की गई गन को भी बरामद कर लिया है। हमला किन कारणों से किया गया था अभी यह स्पष्ट नहीं है। कैलिफोर्निया के हाफ मून बे में घटना के बाद पुलिस ने प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि जिस समय वहां शूटिंग हुई उस दौरान घटनास्थल पर काफी बच्चे भी मौजूद थे। हमलावर पौधों की नर्सरी में काम करता था। उसने एक हमला तो नर्सरी के पास ही किया। पुलिस हमलावर के साथ-साथ उसकी पत्नी से भी पूछताछ करेगी।

ये भी पढ़ें:  चीन में भीषण सड़क हादसा , 16 लोगों की मौत , 66 घायल
लॉस एंजेल्स शूटिंग के दौरान घायलों को अस्पताल ले जाते हेल्थ वर्कर्स।

वहीं कैलिफोर्निया में हो रहे एक के बाद एक हमले पर वहां के लोगों में डर पैदा हो गया है। हाफ मून बे में रहने वाली एक महिला ने कहा कि उन्हें लगने लगा है कि वो अब कहीं भी सेफ नहीं हैं। खास बच्चों के लिए चलाए जाने वाले एक स्कूल में गनमैन ने गोलियां चलाईं। इसमें 2 छात्रों की मौत हो गई और 3 घायल हो गए। इनमें 2 की स्थिति नाजुक है। फायरिंग तब हुई, जब स्कूल में एक प्रोग्राम चल रहा था। पुलिस ने बताया कि फायरिंग के करीब 20 मिनट बाद एक कार से तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि एक आरोपी फरार हो गया।घटना के बाद सार्जेंट पॉल पारिजेक ने बताया कि हमले को सोच समझ कर अंजाम दिया गया था। यह टारगेट किलिंग है। हालांकि, इसके पीछे क्या मकसद था इसका अभी पता नहीं चल पाया है। स्कूल की वेबसाइट के मुताबिक वहां पढ़ने वालों में 80% बच्चे अल्पसंख्यक समुदाय के हैं।

ये भी पढ़ें:  नीदरलैंड के वैज्ञानिक ने 3 दिन पहले ट्वीट कर चेताया था तुर्किये को
सफेद गाड़ी में संदिग्ध था। फायरिंग के बाद पुलिस ने इस गाड़ी को घेर लिया था।

फायरिंग की तीसरी घटना देर रात शिकागो के एक अपार्टमेंट में हुई। इसमें 2 लोगों की जान चली गई, जबकि 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पुलिस ने बताया की घटना को अंजाम देने में कई लोग शामिल थे। हालांकि, अभी तक किसी को पकड़ा नहीं गया है। डिप्टी पुलिस चीफ के मुताबिक यह घुसपैठ का मामला है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News