Home विदेश कश्मीर में आर्थिक और सियासी हालात सामान्य करने के कदमों का अमेरिका...

कश्मीर में आर्थिक और सियासी हालात सामान्य करने के कदमों का अमेरिका ने किया स्वागत

9
0

भारत द्वारा अपने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के आर्थिक एवं सियासी हालात को पूर्ण रूप से सामान्य करने की दिशा में उठाए गए कदमों का अमेरिका ने बुधवार को स्वागत किया। विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि अमेरिका जम्मू-कश्मीर में बदलते हालात पर लगातार नजर रख रहा है।
वॉशिंगटन:
भारत द्वारा अपने केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के आर्थिक एवं सियासी हालात को पूर्ण रूप से सामान्य करने की दिशा में उठाए गए कदमों का अमेरिका ने बुधवार को स्वागत किया। विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा कि अमेरिका जम्मू-कश्मीर में बदलते हालात पर लगातार नजर रख रहा है। उन्होंने दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कश्मीर के संबंध में अमेरिकी नीति में कोई बदलाव नहीं आया है। प्राइस ने कहा, ‘‘भारत के लोकतांत्रिक मूल्यों के अनुरूप केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में आर्थिक और सियासी हालात को पूरी तरह से सामान्य करने के लिए उठाए गए कदमों का हम स्वागत करते हैं। जैसा कि हमने पहले कहा है, विदेश मंत्री टोनी ब्लिंकेन को अपने भारतीय समकक्ष के साथ द्विपक्षीय रूप से और क्वाड के जरिए बात करने के अवसर मिले हैं।’’ ‘क्वाड’ भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और जापान का समूह है, जिसका उद्देश्य हिंद-प्रशांत को मुक्त क्षेत्र सुनिश्चित करना है। प्राइस ने कहा कि अमेरिका का भारत और पाकिस्तान के साथ भी महत्वपूर्ण संबंध है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे विचार से ये संबंध अपने बूते पर कायम हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘जब अमेरिका की विदेश नीति की बात आती है तो यह एक का लाभ और दूसरे की हानि का विषय नहीं होता है। हमारे बीच लाभकारी और रचनात्मक संबंध हैं और ऐसे संबंधों में एक के साथ हमारे संबंधों से दूसरे की अहमियत कम नहीं होती। इसमें एक के साथ हमारे संबंध दूसरे की कीमत पर नहीं होते।’’ उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, ‘‘जब भारत की बात आती है तो हमारे बीच वैश्विक व्यापक रणनीतिक साझेदारी है। जब पाकिस्तान की बात आती है तो इस बारे में मैंने पहले कहा था कि क्षेत्र में हमारे महत्वपूर्ण साझा हित हैं और इन साझा हितों पर हम पाकिस्तानी अधिकारियों के साथ मिलकर काम करना जारी रखेंगे।’’ प्राइस ने कहा कि अमेरिका कश्मीर मुद्दे तथा अन्य विषयों पर भारत और पाकिस्तान के बीच सीधी वार्ता का समर्थन करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here