Home मनोरंजन तुषार कपूर बोले- फ्यूचर में शादी करने की कोई प्लानिंग नहीं है...

तुषार कपूर बोले- फ्यूचर में शादी करने की कोई प्लानिंग नहीं है और मैं खुद को किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहता हूं।

25
0

बॉलीवुड| एक्टर तुषार कपूर अपने बेटे लक्ष्य के सिंगल फादर हैं। उन्होंने 2016 में सरोगेसी के जरिए पिता बनने का ऑप्शन चुना था। हाल ही में हुए एक इंटरव्यू के दौरान तुषार ने कहा कि फ्यूचर में शादी करने की कोई प्लानिंग नहीं है और मैं खुद को किसी के साथ शेयर नहीं करना चाहता हूं।

मुझे लगता है कि मैं सही कदम उठा रहा हूं: तुषार

तुषार ने कहा, “नहीं, क्योंकि अगर मुझे इसके बारे में कोई डाउट होता तो मैं सिंगल पैरेंट बनने के प्रोसेस से नहीं गुजरता। मैंने इसे एक समय और एज में किया जब मैं इसके लिए और जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार था। मुझे लगता है कि मैं सही कदम उठा रहा हूं। मैं कोई और ऑप्शन नहीं चुन सकता था। मैं अभी या फ्यूचर में दुनिया में किसी के साथ खुद को शेयर नहीं करूंगा। तो बस अगर एंड सही है तो सब सही है।”

बताया अपना एक्सपीरियंस

तुषार ने आगे कहा था, ‘एक पिता का अलग तरीका होता है अपनी फीलिंग्स को एक्सप्रेस करना. वह अपने अलग पैरेटिंग स्टाइल की वजह से कम प्रोटेक्टिव हो सकते हैं. अप्रोच अलग हो सकती है, लेकिन फीलिंग्स और प्यार मां की तरह ही होता है.’

इंडस्ट्री में काम करने का फायदा

तुषार ने इस दौरान ये भी बताया कि इंडस्ट्री का होने से क्या फायदा और क्या नुकसान है. इस पर उन्होंने कहा, मेरी जर्नी की बेस्ट बात ये है कि सेट पर काम करना, खुद को मोनिटर पर देखना, फिल्म में एक किरदार निभाना और प्रमोशन करना, जिम जाना और काम से जुड़ी चीजें करना.

नुकसान

वहीं खराब बात जो है वो ये कि बारिश और नाइट में काम करना. तुषार ने ये भी कहा कि उन्हें अवॉर्ड शो में जाने के लिए तैयार होना नहीं पसंद

फिल्म ‘मुझे कुछ कहना है’ से की थी अपने फिल्मी करियर की शुरुआत

तुषार बॉलीवुड के मशहूर स्टार जितेन्द्र के बेटे और भारतीय टीवी और सिनेमा इंडस्ट्री की प्रोड्यूसर एकता कपूर के भाई हैं। यूनिवर्सिटी ऑफ मिशिगन से पढ़े-लिखे तुषार का जन्म 20 नवंबर 1976 में हुआ था। उन्होंने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 2001 में करीना कपूर के अपोजिट फिल्म ‘मुझे कुछ कहना है’ से की थी।

अपनी पहली ही फिल्म में कमाल की एक्टिंग के लिए उन्हें बेस्ट मेल डेब्यू एक्टर का फिल्म फेयर अवॉर्ड भी मिला था। हालांकि अगले दो सालों में ‘क्या दिल ने कहा’, ‘ये दिल’, ‘जीना सिर्फ मेरे लिए’ और ‘कुछ तो है’ ऐसी फिल्में रहीं, जिनकी असफलता तुषार के खाते में दर्ज हुई।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here