Home मनोरंजन 5 साल पुरानी फिल्म ‘रुस्तम’ के एक डायलॉग ने फंसाया, अक्षय कुमार...

5 साल पुरानी फिल्म ‘रुस्तम’ के एक डायलॉग ने फंसाया, अक्षय कुमार समेत 7 लोगों को जारी हुआ कोर्ट का नोटिस

84
0

नई दिल्ली। फिल्म ‘रुस्तम’ की रिलीज के 5 साल बाद लीड एक्टर अक्षय कुमार समेत फिल्म से जुड़े 6 सदस्य और एक सिनेमा हॉल के मालिक कानूनी पचड़े में फंस गए हैं। विवाद फिल्म के एक डायलॉग को लेकर है, जिसमें सेशन जज का किरदार निभा रहे अनंग देसाई को कोर्ट सीन के दौरान वकीलों के लिए बेशर्म कहते सुना गया था। इसे एडवोकेट मनोज गुप्ता ने वकीलों की मानहानि बताया और कोर्ट से आरोपियों को भारतीय दंड विधान की धारा 500, 501, 502 के अंतर्गत कठोर कारावास और जुर्माने की मांग की है।
10 मार्च को कोर्ट में पेश होना होगा
मनोज गुप्ता ने बताया कि उन्होंने यह केस 2016 में फिल्म की रिलीज के तुरंत बाद किया था। लेकिन किसी कारण सुनवाई टलती गई। 2020 में इस पर सुनवाई होनी थी। लेकिन लॉकडाउन के कारण ऐसा नहीं हो पाया। अब जाकर कोर्ट ने फिल्म की टीम के सदस्यों को पहला नोटिस जारी किया है, जिसके तहत उन्हें 10 मार्च को कोर्ट के सामने पेश होना होगा।
गुप्ता ने इनको बनाया है आरोपी
सुभाष चंद्रा (फिल्म की प्रोडक्शन कंपनी जी एंटरटेनमेंट इंटरप्राइजेस लिमिटेड के चेयरमैन)
मुरुदल केजार (जी एंटरटेनमेंट इंटरप्राइजेस लिमिटेड के एमडी और सीईओ)
टीनू सुरेश देसाई (फिल्म के डायरेक्टर)
विपुल के रावल (फिल्म के राइटर)
अक्षय कुमार (फिल्म के लीड एक्टर)
अनंग देसाई (फिल्म के सपोर्टिंग एक्टर)
सुरेश गुप्ता (कटनी के सिटी प्राइड सिनेमा हॉल के मालिक)
इस डायलॉग पर जताई है आपत्ति
फिल्म के एक सीन में जज (अनंग देसाई) नेवी कमांडर पावरी (अक्षयकुमार) से कहते हैं, “कमांडर पावरी कुछ वक्त के लिए अपनी नेवी की तहजीब और प्रोटोकॉल भूल जाइए। बस ये समझिए कि आप एक बेशर्म वकील हैं, जो अपने विटनेस (गवाह) से कुछ भी पूछ सकता है।” गुप्ता का कहना है कि कि कोई भी वकील अपने विटनेस से विधि के दायरे में पूछताछ कर सकता है। ऐसी पूछताछ किया जाना बेशर्मी की श्रेणी में नहीं आता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here