Home संपादकीय भारत की संस्कृति के साक्षी

भारत की संस्कृति के साक्षी

20
0

भारत के लोग कौन थे, उनकी संस्कृति क्या थी, जीवन पद्धति क्या थी, धर्म क्या था, यह सब कोई शायर नहीं बता सकता बल्कि भारत की मिट्टी इसका स्वयं जवाब देती है कि उसमें किसका रक्त शामिल है। अयोध्या से लेकर मथुरा, राखीगढ़ी से लेकर उज्ज्ैन तक खुदाई में भारतीय संस्कृति के प्रमाण मिलते हैं।
भारत की मूल संस्कृति क्या है? इसको लेकर दिग्भ्रिमित करने वाले अनेक विमर्श चलते रहते हैं। एक शायर ने तो यहाँ तक कह दिया कि यहाँ सब किराएदार हैं, कोई मकान मालिक नहीं। उनके कहने का आशय यही था कि भारत में अलग-अलग समय में लोग आते गए और बस गए। भारतीय मूल का कोई नहीं है।

दरअसल, वे आर्य-द्रविणवाली कपोल कल्पना के लिए गढ़े गए झूठ के या तो वाहक थे या फिर उसके फेर में फंस गए होंगे। भारत के लोग कौन थे, उनकी संस्कृति क्या थी, जीवन पद्धति क्या थी, धर्म क्या था, यह सब कोई शायर नहीं बता सकता बल्कि भारत की मिट्टी इसका स्वयं जवाब देती है कि उसमें किसका रक्त शामिल है। अयोध्या से लेकर मथुरा, राखीगढ़ी से लेकर उज्जैन तक खुदाई में भारतीय संस्कृति के प्रमाण मिलते हैं। मध्यप्रदेश के उज्जैन में ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर के विस्तार की योजना से चल रही खुदाई में लगभग 1000 वर्ष पुराने मंदिर का ढांचा, कुछ मूर्तियां एवं अन्य सामग्री मिली है। यह मंदिर 11वीं-12वीं सदी का बताया जा रहा है।

परमार काल की वास्तुकला की अद्भुत कलाकृति के दर्शन मंदिर एवं अन्य सामग्री से हो रहे हैं। वहीं, मंदिर से दक्षिण वाले हिस्से में जमीन से चार मीटर नीचे एक दीवार भी मिली है, जिसके लगभग 2100 वर्ष पुराने होने का अनुमान है। उल्लेखनीय है कि पिछले वर्ष भी मंदिर परिसर की खुदाई के दौरान हवन कुंड, चूल्हा समेत कई अन्य चीजें मिली थीं। अब दोबारा से चीजें मिल रही हैं, जो काफी महत्वपूर्ण है। खुदाई में मिल प्रमाण भारतीय संस्कृति के साक्षी हैं। ये प्रमाण बताते हैं कि भारत की मूल संस्कृति हिन्दू है। यहाँ प्रारंभ से हिन्दू या जिसे सनातन कहते हैं, वे रहते थे।

हाँ, भारत का वैभव एवं उच्च गुणवत्तापूर्ण जीवन देखकर अनेक बाहरी संप्रदाय एवं नस्ल अवश्य यहाँ आती रहीं और बसती रहीं। बाद में कुछ ताकतें ऐसी भी आईं, जिन्होंने तलवार के जोर पर यहाँ के मूल नागरिकों का कन्वर्जन किया। जोर-जबरदस्ती या सत्ता के प्रभाव से उनकी पूजा-पद्धति को बदल दिया। राखीगढ़ी की खुदाई में प्राप्त प्रमाणों से तो यह भी सिद्ध हो गया कि आर्य-द्रविण की अवधारणा कोरी गप्प है।

हिमालय से लेकर अंदमान तक भारत में रहने वालों का डीएनए एक ही है। इसी तरह अयोध्या के सच को भी बौद्धिक दोगलेपन से ढांकने का प्रयास हुआ था लेकिन वहाँ भी उच्च न्यायालय की देखरेख में हुई खुदाई से लेकर अभी हाल में राममंदिर निर्माण के लिए जारी खुदाई के दौरान प्राप्त स्थापत्य ने सब सच सामने ला दिया। कहने का अर्थ यही है कि भारत के अनेक हिस्सों में खुदाई के दौरान जो प्रमाण मिले हैं, वे सब भारतीय संस्कृति के साक्षी बनते हैं। यह सच सबको स्वीकार कर लेना चाहिए कि भारत का मूल डीएनए हिन्दू हैं।

Previous articleटोक्यो ओलंपिक खिलाडिय़ों से प्रधानमंत्री की बात : जापान में जीत के मंसूबे
Next articleसब हमारा परिवार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here