Home बिजनेस गिर गया सोने का हाजिर भाव, चांदी में भी आई अच्छी-खासी गिरावट

गिर गया सोने का हाजिर भाव, चांदी में भी आई अच्छी-खासी गिरावट

68
0

नई दिल्ली। घरेलू सर्राफा बाजार में सोमवार को सोने और चांदी दोनों ही कीमती धातुओं के दाम में गिरावट दर्ज हुई है। एचडीएफसी सिक्युरिटीज के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में सोमवार को सोने के हाजिर भाव में 152 रुपये प्रति 10 ग्राम की गिरावट दर्ज हुई। इस गिरावट से सोने का भाव 48,107 रुपये प्रति 10 ग्राम पर आ गया है। सिक्युरिटीज के अनुसार, कमजोर वैश्विक रुख के चलते घरेलू स्तर पर यह गिरावट दर्ज हुई। गौरतलब है कि पिछले सत्र में सोना 48,259 रुपये प्रति 10 ग्राम के भाव पर बंद हुआ था।

सोने के साथ ही चांदी के घरेलू हाजिर भाव में भी सोमवार को गिरावट दर्ज हुई। चांदी के भाव में 540 रुपये प्रति किलोग्राम की गिरावट दर्ज की गई है। इस गिरावट से चांदी का भाव गिरकर 69,925 रुपये प्रति किलोग्राम पर आ गया है। पिछले सत्र में चांदी 70,465 रुपये प्रति किलोग्राम के भाव पर बंद हुई थी।

वैश्विक स्तर पर सोना

ब्लूमबर्ग के अनुसार, कॉमेक्स पर सोने का वैश्विक वायदा भाव सोमवार शाम 0.17 फीसद या 3.20 डॉलर की गिरावट के साथ 1888.80 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड करता दिखाई दिया। वहीं, सोने का घरेलू हाजिर भाव इस समय 0.21 फीसद या 3.95 डॉलर की गिरावट के साथ 1887.64 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड करता दिखाई दिया।

चांदी का वैश्विक भाव

ब्लूमबर्ग के अनुसार, कॉमेक्स पर चांदी का वैश्विक वायदा भाव सोमवार शाम 0.65 फीसद या 0.18 डॉलर की गिरावट के साथ 27.72 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड करता दिखा। वहीं, चांदी का वैश्विक हाजिर भाव 0.51 फीसद या 0.14 डॉलर की गिरावट के साथ 27.65 डॉलर प्रति औंस पर ट्रेड करता दिखा।

MCX पर सोना

घरेलू वायदा बाजार की बात करें, तो सोमवार शाम एमसीएक्स एक्सचेंज पर 5 अगस्त, 2021 वायदा के सोने का भाव 0.18 फीसद या 89 रुपये की गिरावट के साथ 48,905 रुपये प्रति 10 ग्राम पर ट्रेड करता दिखाई दिया।

MCX पर चांदी

एमसीएक्स एक्सचेंज पर सोमवार शाम 5 जुलाई, 2021 वायदा की चांदी का भाव 0.54 फीसद या 384 रुपये की गिरावट के साथ 71155 रुपये प्रति किलोग्राम पर ट्रेड करता दिखाई दिया।

Previous articleसोनू सूद से मदद मिलने के बावजूद नहीं बच पाए माही विज के भाई, सोशल मीडिया पर अभिनेत्री ने लिखा इमोशनल पोस्ट
Next articleक्रिसिल ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ के अपने अनुमान में की कटौती, निजी खपत व निवेश के प्रभावित होने का दिया हवाला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here