Home बिजनेस सर्वोच्च स्तर 59,887 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निवेशकों को 3 लाख करोड़...

सर्वोच्च स्तर 59,887 पर बंद हुआ सेंसेक्स, निवेशकों को 3 लाख करोड़ का मुनाफा

29
0

मुंबई। भारतीय शेयर बाजार के 30 शेयरों का इंडेक्स सेंसेक्स ऐतिहासिक स्तर, 60 हजार अंक के करीब बंद हुआ है। सेंसेक्स 960 अंक उछलकर 59,887 पर ठहरा, जो 60,000 से महज 112 अंक कम है। कारोबार के दौरान सेंसेक्स ने 59,957 अंक के रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ। एक वक्त ऐसा लग रहा था कि सेंसेक्स गुरुवार को ही 60 हजार अंक के ऐतिहासिक स्तर को पारकर लेगा, हालांकि बाद में मामूली मुनाफा वसूली हुई।

बहरहाल, अब हर किसी की निगाहें शुक्रवार के कारोबार पर हैं। ऐसा माना जा रहा है कि शुक्रवार को बाजार खुलने के साथ ही सेंसेक्स 60 हजार अंक के स्तर को पार कर लेगा। अगर निफ्टी की बात करें तो इसने भी अपने पुराने ऑलटाइम हाई को पीछे छोड़ दिया है। निफ्टी 276 अंक बढ़कर 17,823 पर बंद किया। ये ऑल टाइम हाई क्लोजिंग है। अगर सब कुछ ठीक रहा तो निफ्टी के लिए भी शुक्रवार का दिन ऐतिहासिक हो सकता है। इस दिन ये 18 हजार अंक के स्तर को पार कर सकता है। गुरुवार को शेयर बाजार में बढ़त की वजह से निवेशक मालामाल हो गए।

दरअसल, बीएसई में सूचीबद्ध शेयरों का मार्केट कैपिटल 3 लाख करोड़ रुपये बढ़ गया है। ये रकम निवेशकों के मुनाफे के तौर पर बढ़ा है। फिलहाल, बीएसई का मार्केट कैपिटल 2 करोड़ 61 लाख 75 हजार रुपए है। फीसदी में ग्रोथ की बात करें तो एक दिन पहले के मुकाबले सेंसेक्स 1.63 फीसदी बढ़ा है। निफ्टी ने भी 1 फीसदी से अधिक की तेजी के साथ 17,800 के स्तर को पार कर लिया।

9 महीने में 10 हजार अंक बढ़ा

उल्लेखनीय है कि 21 जनवरी 2021 को सेंसेक्स ने कारोबार के दौरान पहली बार 50,000 अंक का आंकड़ा पार किया। इसके बाद 13 अगस्त 2021 को सेंसेक्स पहली बार 55,000 अंक के पार जाने के बाद इस स्तर पर बंद हुआ। अब सेंसेक्स 60 हजार अंक के करीब है। कहने का मतलब है कि सिर्फ 9 महीने के भीतर सेंसेक्स करीब 10 हजार अंक मजबूत हुआ है।

अमेरिका के सेंट्रल बैंक फेड रिजर्व के नतीजों के बाद ये बढ़त देखने को मिली है। दरअसल, अमेरिकी फेड ने ब्याज दरों को स्थिर रखा है लेकिन आगे कटौती के संकेत दिए हैं। बैंक ने बताया कि कोरोना के बाद से अमेरिका की इकोनॉमी रिकवर कर रही है। इस वजह से अमेरिका के स्टॉक एक्सचेंज डाउ जोंस और स्टैंडर्ड एंड पुअर्स में भी जबरदस्त तेजी आई थी। इसके बाद भारतीय शेयर बाजार को भी बूस्ट मिला है।

Previous articleअमेरिका में प्रधानमंत्री मोदी ने की ग्लोबल सीईओ से मुलाकात, कंपनियों ने निवेश में दिखाई रुचि
Next articleकृषि सहित अन्य योजनाओं में भी मप्र देश का अग्रणी राज्य : तोमर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here