Home » ट्विटर के पूर्व सीईओ पर सरकार का पलटवार, आईटी मंत्री ने जैक डोर्सी के आरोपों को बताया झूठा और बेबुनियाद

ट्विटर के पूर्व सीईओ पर सरकार का पलटवार, आईटी मंत्री ने जैक डोर्सी के आरोपों को बताया झूठा और बेबुनियाद

ट्विटर के पूर्व सीईओ जैक डोर्सी के बयान से देश में सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार के दबाव को लेकर राजनीति जंग छिड़ गई है। विपक्ष जैक डोर्सी के बयान को मुद्दा बनाकर सरकार को घेरने में जुट गई है। वहीं केंद्र सरकार ने इस आरोप को पूरी तरह से खारिज कर दिया। केंद्र सरकार ने इस आरोप को झूठा और बेबुनियाद बताया।
केंद्र सरकार के आईटी राज्यमंत्री राजीव चंद्रशेखर ने ट्वीट कर बताया कि यह जैक डोर्सी का एक झूठ है। शायद ट्विटर के इतिहास के उस बहुत ही संदिग्ध दौर को मिटाने का प्रयास है। डोर्सी और उनकी टीम के तहत ट्विटर भारतीय कानून का बार-बार और लगातार उल्लंघन कर रहा था। वास्तव में वे 2020 से 2022 तक बार-बार कानून का पालन नहीं कर रहे थे और यह केवल जून 2022 था जब उन्होंने अंततः भारत के कानून को स्वीकार किया। कोई जेल नहीं गया और न ही ट्विटर ‘शटडाउन’ हुआ। उन्होंने कहा कि डोर्सी की अगुवाई में ट्विटर को भारतीय कानून की संप्रभुता को स्वीकार करने में समस्या थी। उन्होंने ऐसा व्यवहार किया जैसे भारत के कानून उस पर लागू नहीं होते। एक संप्रभु राष्ट्र के रूप में भारत को यह सुनिश्चित करने का अधिकार है कि भारत में काम करने वाली सभी कंपनियां उसके कानूनों का पालन करें।
सनद रहे कि डोर्सी ने सोमवार को यूट्यूब चैनल ब्रेकिंग पॉइंट्स में एक साक्षात्कार के दौरान दावा किया कि कंपनी को किसानों के समर्थन और सरकार की आलोचना करने वाले खातों को ब्लॉक करने के लिए भारत से ‘कई अनुरोध’ प्राप्त हुए थे। उन्होंने यह भी कहा कि भारत में कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन के समय सरकार की आलोचना करने वाले कई ट्विटर अकाउंट को सरकार ने ब्लॉक करने के निर्देश दिए थे। डोर्सी ने यह भी बताया की सरकार की तरफ से उन पर दबाव भी बनाया गया था और ट्विटर को भारत में बंद करने की धमकी भी दी गई।
खड़गे ने सरकार पर बोला हमला
कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि भाजपा ट्विटर के पूर्व सीईओ के बयान पर राष्ट्रवाद का ढोंग रच रहे हैं। उन्होंने भाजपा पर देश को शर्मिंदा करने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को कुचलने के लिए मोदी सरकार ने क्या कुछ नहीं किया। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अन्नदाता किसानों को “आंदोलनजीवी” बताया। इसके साथ ही खड़गे ने डाटा लीक पर भी सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि सरकार को न निजता के मौलिक अधिकार की परवाह है, न ही उसको राष्ट्रीय सुरक्षा से कोई मतलब है। हालांकि, सरकार ने डेटा में सेंधमारी की खबरों को निराधार बताया है। सरकार के इस दावे को नकारते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि वह जितनी भी लीपापोती कर ले, सच्चाई ये है कि जनता का डाटा सुरक्षित नहीं हैं।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd