Home बिजनेस पेट्रोल 1 अप्रैल से 14 जुलाई के बीच हुआ 10 रुपये लीटर...

पेट्रोल 1 अप्रैल से 14 जुलाई के बीच हुआ 10 रुपये लीटर महंगा, पिछले साल 20 रुपये से ज्‍यादा बढ़े दाम

15
0

नई दिल्‍ली। पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतों में हो रही लगातार वृद्धि से आम जनता परेशान है। पिछले महीने देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतें 100 रुपये के स्‍तर को पार कर चुकी हैं। तेल की कीमतों में यह वृद्धि अचानक नहीं हुई है, यह पिछले वित्‍त वर्ष से निरंतर जारी है। पेट्रोल-डीजल की खुदरा कीमतों का यह स्‍तर पहले कभी भी नहीं देखा गया है। जब 2010-14 के दौरान क्रूड ऑयल 100 डॉलर प्रति बैरल से अधिक था तब भी पेट्रोल-डीजल की खुदरा कीमत इतने ऊंचे स्‍तर पर नहीं थीं। पेट्रोलियम प्‍लानिंग एंड एनालिसिस सेल द्वारा उपलब्‍ध कराए गए आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक वित्‍त वर्ष 2020-21 में 1 अप्रैल, 2020 से 31 मार्च, 2021 के दौरान पेट्रोल की खुदरा कीमत में 20.97 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। 1 अप्रैल, 2020 को दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 69.59 रुपये प्रति लीटर थी, जो 31 मार्च 2021 को बढ़कर 90.65 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गई। इस तरह वित्‍त वर्ष 2020-21 के दौरान पेट्रोल की कीमत में 30.13 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। कीमत में बढ़ोतरी का यह सिलसिला यहीं नहीं रुकता है। यह वित्‍त वर्ष 2021-22 में भी निरंतर चालू है। चालू वित्‍त वर्ष के पहले साढ़े तीन महीनों के दौरान दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 10.63 रुपये प्रति लीटर बढ़ी है। एक अप्रैल, 2021 को यहां पेट्रोल की कीमत 90.65 रुपये प्रति लीटर थी, जो 14 जुलाई, 2021 को बढ़कर 101.19 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गई। इस दौरान पेट्रोल के दाम में 11.73 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। डीजल की बात करें तो, वित्‍त वर्ष 2020-21 में डीजल की खुदरा कीमत में 18.58 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। एक अप्रैल, 2020 को दिल्‍ली में डीजल का भाव 62.29 रुपये प्रति लीटर था, जो 31 मार्च, 2021 को बढ़कर 80.87 रुपये प्रति लीटर हो गया। डीजल की कीमत में 29.83 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। चालू वित्‍त वर्ष में, दिल्‍ल में डीजल की कीमतों में अबतक 8.85 रुपये प्रति लीटर का इजाफा हुआ है। एक अप्रैल, 2021 को डीजल का दाम 80.87 रुपये था, जो अब बढ़कर 89.72 रुपये प्रति लीटर बिक रहा है। राजस्‍थान, मध्‍य प्रदेश, तमिलनाडु, महाराष्‍ट्र जैसे राज्‍यों में ईंधन की कीमतों में वृद्धि सबसे ज्‍यादा हुई है। यहां पेट्रोल-डीजल पर स्‍थानीय कर देश में सबसे ज्‍यादा है। वित्‍त वर्ष 2020-21 में ईंधन की कीमतों में इतनी अधिक वृद्धि का कारण केवल केंद्र सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल पर लगाया गया उच्‍च कर है। सरकार ने कोविड राहत उपायों के लिए अतिरिक्‍त धन जुटाने के लिए पिछले साल मई में पेट्रोल-डीजल पर एक्‍साइज ड्यूटी में रिकॉर्ड बढ़ोतरी की है।

Previous articleभारत ही नहीं, अमेरिका और ब्रिटेन पर भी महंगाई की मार, रिकॉर्ड स्तर पर पहुंची मुद्रास्फीति
Next articleगैस ही नहीं इन वजहों से भी हो सकती है पेट फूलने की समस्या, इन उपायों से पा सकते हैं इससे निजात

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here