Home » प्रत्यक्ष कर संग्रह में 15.3% का इजाफा, मिला 15.71 लाख करोड़ रुपए

प्रत्यक्ष कर संग्रह में 15.3% का इजाफा, मिला 15.71 लाख करोड़ रुपए

  • चालू वित्त वर्ष में 16 मार्च तक केंद्र का शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह (रिफंड जारी करने के बाद) 15.3 फीसदी बढ़कर 15.71 लाख करोड़ रुपए रहा। सूत्रों ने कहा कि अग्रिम कर संग्रह में तेजी से प्रत्यक्ष कर प्रा​प्तियों में जोरदार इजाफा हुआ है।
    नई दिल्लीः
    चालू वित्त वर्ष में 16 मार्च तक केंद्र का शुद्ध प्रत्यक्ष कर संग्रह (रिफंड जारी करने के बाद) 15.3 फीसदी बढ़कर 15.71 लाख करोड़ रुपए रहा। सूत्रों ने कहा कि अग्रिम कर संग्रह में तेजी से प्रत्यक्ष कर प्रा​प्तियों में जोरदार इजाफा हुआ है। यह पूरे वित्त वर्ष के लिए संशोधित लक्ष्य 16.5 लाख करोड़ रुपए का 85.2 फीसदी और बजट अनुमान 14.2 लाख करोड़ रुपए से करीब 10 फीसदी अ​धिक है। 16 मार्च तक कॉर्पोरेट आय कर संग्रह में 8.11 लाख करोड़ रुपए और व्य​क्तिगत आयकर मद में 7.32 लाख करोड़ रुपए प्राप्त हुए। इसमें इस अव​धि के दौरान प्राप्त 7.40 लाख करोड़ रुपए का अग्रिम कर संग्रह भी शामिल है। इस दौरान प्रतिभूति लेनदेन कर संग्रह 24,093 करोड़ रुपए रहा जबकि संशो​धित लक्ष्य 25,000 करोड़ रुपए है। एक वरिष्ठ अ​धिकारी ने कहा, ‘हम चालू वित्त वर्ष की चौथी और अंतिम तिमाही में प्राप्त कुल अग्रिम कर की गणना कर रहे हैं। 16 मार्च तक के आंकड़े में देय अग्रिम कर का 60 फीसदी हिस्सा शामिल है। शेष 40 फीसदी 18 से 19 महीने में दिखेगा।’ उन्होंने कहा, ’16 मार्च तक की गणना के आधार पर कर संग्रह संशो​धित लक्ष्य 16.5 लाख करोड़ रुपए से महज 78,821 करोड़ रुपए (या 5 फीसदी) कम है। अग्रिम कर की चौथी किस्त अभी पूरी तरह नहीं आई है। ऐसे में इसकी पूरी संभावना है कि कुल कर संग्रह संशो​धित अनुमान से अधिक रहेगा।’ अग्रिम कर संग्रह की अंतिम किस्त का भुगतान 15 मार्च तक करना था। मामले के जानकार एक अन्य अ​धिकारी ने कहा कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 20 मार्च को चालू वित्त वर्ष के लिए पूरे देश से प्राप्त कर संग्रह की समीक्षा कर सकता है। आम तौर पर मार्च में कर संग्रह में उल्लेखनीय इजाफा होता है क्योंकि इस दौरान अंतिम तिमाही और वित्त वर्ष का समापन होता है। सरकार को उम्मीद है कि वह इस साल कर संग्रह के संशो​धित अनुमान को हासिल कर लेगी। ज्यादातर कंपनियां अपनी कुल कर देनदारी का भुगतान चौथी किस्त में करती हैं और पहले की किस्तों में कम कर भुगतान की भरपाई भी इस दौरान की जाती है जिससे राजस्व में इजाफा होने की उम्मीद है। इसके साथ ही बकाया कर मांग की वसूली के प्रयासों से भी राजस्व संग्रह बढ़ेगा। अग्रिम कर भुगतान पूरे वित्त वर्ष के दौरान चार किस्तों में किया जाता है। अग्रिम कर को आ​र्थिक गति​वि​धियों का संकेतक भी माना जाता है। पहली किस्त में कुल कर के 15 फीसदी का भुगतान 15 जून तक, दूसरी किस्त 15 सितंबर तक (30 फीसदी), तीसरी किस्त 15 दिसंबर तक (30 फीसदी) और चौथी किस्त में शेष कर का भुगतान 15 मार्च तक करना होता है। वित्त वर्ष 2023 के लिए प्रत्यक्ष कर संग्रह के अनुमान को बजट लक्ष्य 14.08 लाख करोड़ रुपए से 17 फीसदी बढ़ाकर 16.5 लाख करोड़ रुपए किया गया था। फरवरी में पेश आम बजट में 33.6 लाख करोड़ रुपए कर राजस्व मिलने का अनुमान लगाया गया था जो ​वित्त वर्ष 2023 के संशो​धित कर संग्रह 30.4 लाख करोड़ रुपए से 10.4 फीसदी अ​धिक है। वित्त वर्ष 2023-24 में कुल राजस्व प्रा​प्तियों में प्रत्यक्ष कर की हिस्सेदारी 18.23 लाख करोड़ रुपए रहने का अनुमान लगाया गया है, जिसमें 9.2 लाख करोड़ रुपए कॉर्पोरेट कर और 9 लाख करोड़ रुपए व्य​क्तिगत आय कर शामिल है।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd