Home बोध कथा देने वाला कौन

देने वाला कौन

94
0

आज हमने भंडारे में भोजन करवाया। आज हमने ये बांटा, आज हमने वो दान किया। हम अक्सर ऐसा कहते और मानते हैं। इसी से संबंधित एक कथा सुनिए। एक लकड़हारा रात-दिन लकडिय़ां काटता, मगर कठोर परिश्रम के बावजूद उसे आधा पेट भोजन ही मिल पाता था। एक दिन उसकी भेंट एक साधु से हुई। लकड़हारे ने साधु से कहा- जब भी आपकी प्रभु से भेंट हो जाये, मेरी एक विनती उनके सामने रखना और मेरे कष्ट का कारण पूछना। कुछ दिनों बाद उसे वह साधु फिर मिला।

लकड़हारे ने उसे अपनी विनती की याद दिलाई तो साधु ने कहा, ‘प्रभु ने बताया है कि लकड़हारे की आयु 60 वर्ष है और उसके भाग्य में पूरे जीवन के लिये सिर्फ पांच बोरी अनाज है। इसलिए प्रभु उसे थोड़ा अनाज ही देते हैं ताकि वह 60 वर्ष तक जीवित रह सके।’ समय बीता। साधु उस लकड़हारे को फिर मिला तो लकड़हारे ने कहा, ऋषिवर ! अब जब भी आपकी प्रभु से बात हो तो मेरी यह विनती उन तक पहुंचा देना कि वह मेरे जीवन का सारा अनाज एक साथ दे दें, ताकि कम से कम एक दिन तो मैं भरपेट भोजन कर सकूं।

अगले दिन साधु ने कुछ ऐसा किया कि लकड़हारे के घर ढेर सारा अनाज पहुंच गया। लकड़हारे ने समझा कि प्रभु ने उसकी विनती स्वीकार कर उसे उसका सारा हिस्सा भेज दिया हैं। उसने बिना कल की चिंता किये, सारे अनाज का भोजन बनाकर साधुओं और भूखों को खिला दिया और खुद भी भरपेट खाया। लेकिन अगली सुबह उठने पर उसने देखा कि उतना ही अनाज उसके घर फिर पहुंच गया हैं। उसने फिर गरीबों को खिला दिया। फिर उसका भंडार भर गया। यह सिलसिला रोज-रोज चल पड़ा और लकड़हारा लकडिय़ां काटने की जगह गरीबों को खाना खिलाने में व्यस्त रहने लगा।

कुछ दिन बाद वह साधु फिर लकड़हारे को मिला तो लकड़हारे ने कहा,’ऋषिवर ! आप तो कहते थे कि मेरे जीवन में सिर्फ पांच बोरी अनाज है, लेकिन अब तो हर दिन मेरे घर पांच बोरी अनाज आ जाता हैं। साधु ने समझाया, ‘तुमने अपने जीवन की परवाह न करते हुए अपने हिस्से का अनाज गरीब व भूखों को खिला दिया। इसीलिए प्रभु अब उन गरीबों के हिस्से का अनाज तुम्हें दे रहे हैं।

Previous articleधर्म की ग्लानि का अर्थ
Next articleबस संचालकों ने कहा माह का कर माफ करे सरकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here