Home बोध कथा असत्य का सम्मान

असत्य का सम्मान

86
0

सत्य और असत्य नाम के दो भाई थे। सत्य स्वच्छ और सुन्दर,असत्य मलिन और देखने से ही अप्रिय लग रहा था। जहां जाता असत्य ठुकराया जाता और दुत्कारा ही जाता,इसलिये उसने बदला लेने का निश्चय कर लिया। एक बार दोनों तीर्थ-यात्रा पर निकले वहां भी यही स्थिति रही। सत्य का तो सम्मान होता क्योंकि वह सुन्दर लगता था और असत्य का अनादर क्योंकि न उसके वस्त्र साफ थे, न आकृति।घूमते-घूमते बद्रीनाथ पहुंचे।

स्नान के लिये दोनों एक सरोवर में उतरे। सत्य देह मन-लगाकर स्नान करने में लगा रहा, उसने यह भी न देखा कि इस बीज असत्य चुपचाप उसके कपड़े पहनकर चला गया। बाहर निकलने पर सत्य को विवश होकर असत्य के कपड़े पहनने पड़े। तब से दानों बराबर चल रहे है और हर व्यक्ति के पास आते हैं पर असत्य की पूजा होती है, क्योंकि उसने सत्य के कपड़े पहन लिये थे। सत्य अब दर-दर मारा फिर रहा है।

Previous articleविजयादशमी के उपलक्ष्य
Next articleभोपाल में अगस्त 2023 से दौड़ेगी मेट्रो रेल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here