Home लेख भारत विभाजन की त्रासदी अनछुए पहलू

भारत विभाजन की त्रासदी अनछुए पहलू

112
0
  • फूट का फायदा उठाकर ब्रिटिश शासकों ने भारत-पाक बंटवारे के बीज बो दिए

अखंड भारत के बीच हमेशा हमेशा के लिए वैमनस्यता की एक स्थाई लकीर स्थापित हो गई। इस लकीर ने अखंड भारत के एक हिस्से को भारत तो दूसरे को पाकिस्तान के रूप में बांट दिया।

  • डॉ राघवेंद्र शर्मा, लेखक मप्र बाल सरंक्षण आयोग के अध्यक्ष रहे है

कहते हैं आगे बढऩे के प्रयासों के दौरान पडऩे वाले आराम दायक पड़ावों को मंजिल मान लिया जाए, तो फिर प्रगति के रास्ते अवरुद्ध हो जाते हैं। यही बात भारत की खंड खंड आजादी को संपूर्ण आजादी मान लिए जाने पर लागू होती है। दुर्भाग्य की बात तो यह है कि हम मानसिक रूप से वर्तमान भारत को ही अखंड भारत समझने की भूल करने लगे हैं। जबकि यह सच नहीं है। अखंड भारत का विहंगम स्वरूप इतना व्यापक था, कि उस का नक्शा एक बार देख भर लेने से शत्रुओं के दिल दहल जाया करते थे। पहले राजे रजवाड़ों की फूट, फिर मुगलों के अत्याचार और अंत में अंग्रेजों के शासन तथा कांग्रेस की अक्षम्य भूलों ने भारतीय समाज को इस अवस्था में पहुंचा दिया कि वह वर्तमान भारत को ही अखंड भारत मानने हेतु विवश है।

बेशक यह जानकार अधिकांश लोगों को आश्चर्य होगा कि मैंने अखंड से खंड खंड हुए भारत के विषय मैं कांग्रेस का नाम क्यों लिया। तो इसका जवाब केवल इतना सा है कि वर्ष 1947 आते-आते कांग्रेस और उसके वयोवृद्ध होते जा रहे नेताओं में वह दमखम शेष रह ही नहीं गया था कि वह अंग्रेजों से भारत की अखंड आजादी के लिए और अधिक संघर्ष कर पाते। यही वजह रही कि उसके नेताओं ने शारीरिक और मानसिक थकावट का शिकार होकर जैसे मिले, जिस हाल में मिले, बस मिल जाए, इस विचार के साथ विखंडित आजादी को सहज भाव से स्वीकार कर लिया। इस बेचारगी के पीछे दूसरा कारण यह पाया जाता है कि तब जितने भी वयोवृद्ध कांग्रेसी नेता शेष बचे थे, उनमें से अधिकांश तो स्वतंत्रता संग्राम के एवज में अब केवल सत्ता का ऐश्वर्य वैभव पाना चाह रहे थे। जबकि 1947 के आते-आते हालात इतने कठिन नहीं थे कि हमें अंग्रेजों के सामने आजादी के लिए गिड़गिड़ाना आवश्यक था।

वर्ष 1944 तक नेताजी सुभाष चंद्र बोस ब्रिटिश शासन की चूलें हिला चुके थे। उन्होंने भारतीय आजाद सरकार की स्थापना कर कम से कम 9 देशों से स्वतंत्र राष्ट्र के रूप में भारत के पक्ष में मान्यता भी प्राप्त कर ली थी। यही नहीं, उन्होंने अंग्रेजों से लोहा लेने के लिए अनेक देशों को आजाद हिंद सेना के साथ खड़ा कर लिया था। इसी के साथ नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आजाद हिंद फौज ने खूनी संघर्ष के माध्यम से अनेक प्रांत ब्रिटिश सरकार से छीन लिए थे। इस बीच जब नेताजी की मृत्यु का समाचार फैला, तो अंग्रेजों को अनुमान था कि उनके सैनिक और खून के बदले खून की तर्ज पर लोहा ले रहे क्रांतिकारी हताश होकर घर बैठ जाएंगे। लेकिन नेताजी की मौत ने युवाओं को इतना विचलित किया कि भारतीय सैनिकों ने फिरंगी शासकों के खिलाफ विद्रोह शुरू कर दिया।

वर्ष 1946 के आते-आते यह विद्रोह इतना बढ़ा कि मुंबई के समुद्री तट पर स्थापित नौसेना ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ हथियार उठा लिए। लगभग 2.5 मिलियन वे भारतीय सैनिक भी खिलाफत पर उतारू हो गए, जो विश्व युद्ध के दौरान अपनी बहादुरी का परिचय अंग्रेजों को पहले ही दे चुके थे। स्वयं ब्रिटिश अधिकारी स्वीकार कर चुके हैं कि नेताजी की मृत्यु के बाद ब्रिटिश सरकार के खिलाफ जो माहौल बना वह भयावह था। सूचनाएं मिल रही थीं की विद्रोह के बाद व्यापक पैमाने पर खूनी संघर्ष तय था। कुल मिलाकर उन्होंने स्वयं को कांग्रेस के अहिंसक आंदोलन से द्रवित होना प्रतिपादित किया और खुद को दया की मूर्ति स्थापित करने में सफल साबित हुए। यहां सवाल उठता है कि जब अंग्रेजों को भारत आजाद करना ही था तो फिर उसे खंडित करने की क्या आवश्यकता थी। वे जिन्हें नेता मानते थे, उन महात्मा गांधी को देश की बागडोर सौंप कर ब्रिटेन लौट सकते थे। यही बात कांग्रेस पर भी लागू होती है।

वह जानती थी कि अंग्रेज अपने हृदय विदारक अंत की आशंका से भयाक्रांत हैं और उन्हें जल्द से जल्द सही सलामत अपने वतन लौटने की चिंता थी। ऐसे में उसे आजादी अंग्रेजों की शर्तों पर स्वीकार करने की आवश्यकता ही क्या थी? उसने क्यों व्यक्ति विशेष को प्रधानमंत्री बनाने की जिद अपनाकर वह सब कर दिया जो षड्यंत्र कारी अंग्रेजी शासक चाहते थे। हद तो तब हुई जब महात्मा गांधी ने भी स्पष्ट कर दिया था कि भारत के टुकड़े मेरी लाश पर होंगे। लेकिन तब भी बात तत्कालीन कांग्रेस प्रमुखों की समझ में नहीं आई। सरदार बल्लभ भाई पटेल की लोकतांत्रिक जीत के बाद भी कोई पूरे भारत पर अपना आधिपत्य स्थापित करने की कवायद में जुट गया, तो किसी ने आजादी की लड़ाई का मेहनताना पाकिस्तान के रूप में मांग लिया।

कांग्रेस के तत्कालीन नेताओं की यह छीछालेदर जब अंग्रेज शासकों ने देखी तो उन्हें मानो मुंह मांगी मुराद मिल गई। इनकी आपसी फूट का फायदा उठाकर ब्रिटिश शासकों ने भारत-पाक बंटवारे के बीज बो दिए। इतिहासकारों को आश्चर्य उस वक्त हुआ जब महात्मा गांधी यह कहते ही रह गए कि भारत-पाक बंटवारा मेरी लाश पर होगा?। वहीं नेहरू खंडित भारत का प्रधानमंत्री पद पाकर प्रसन्न हो गए। उधर मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान के कायदे आजम का पद पाकर सकून हासिल कर लिया।नतीजा यह हुआ कि भारत-पाक बंटवारे के नाम पर भारी खून खराबा हुआ और अखंड भारत के बीच हमेशा हमेशा के लिए वैमनस्यता की एक स्थाई लकीर स्थापित हो गई। इस लकीर ने अखंड भारत के एक हिस्से को भारत तो दूसरे को पाकिस्तान के रूप में बांट दिया।

Previous articleभारत की नियति है ‘अखंड भारत’ होना
Next articleजंतर मंतर पर किसने लगाए मुस्लिम-विरोधी नारे?

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here