Home लेख वर्षाजल संरक्षण ही संकट का समाधान

वर्षाजल संरक्षण ही संकट का समाधान

99
0
  • ज्ञानेंद्र रावत

जल संकट गंभीर वैश्विक समस्या है। वल्र्ड रिसोर्स इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के अनुसार, 37 देश पानी की भारी किल्लत का सामना कर रहे हैं। सिंगापुर, पश्चिमी सहारा, कतर, बहरीन, जमैका, सऊदी अरब और कुवैत समेत 19 देश ऐसे हैं, जहां पानी की आपूर्ति मांग से बेहद कम है। हमारा देश इनसे एक पायदान पीछे है। पृथ्वी की सतह पर मौजूद 71 फीसदी पानी में से केवल 2।5 फीसदी ही लवणयुक्त पानी है, जबकि उपलब्ध जल का 0।08 फीसदी पानी मानव के इस्तेमाल के लायक है।

हालात इतने खराब हैं कि दुनिया में पांच में से एक व्यक्ति की साफ पानी तक पहुंच नहीं है। विकासशील देशों में सालाना लगभग 22 लाख लोगों की मौत साफ पानी न मिलने की वजह से हुई बीमारियों से हो जाती है। इसका एकमात्र हल है कि वर्षाजल संरक्षण को बढ़ावा देकर और भूजल रिचार्ज प्रणाली के जरिये गिरते भूजल स्तर को रोका जाए तथा उचित जल-प्रबंधन से सबको शुद्ध पेयजल मुहैया कराया जाए। इसके बिना समस्या के समाधान की उम्मीद बेमतलब है। नीति आयोग का कहना है, ‘देश में करीब साठ करोड़ आबादी पानी की समस्या से जूझ रही है। तीन-चौथाई घरों में पीने का साफ पानी मयस्सर नहीं है। देश में मॉनसून बेहतर रहने के बावजूद यह स्थिति आ सकती है, इसका अहसास कभी नहीं किया गया।

जल गुणवत्ता के मामले में 122 देशों में हम 120वें पायदान पर हैं। फिर भी जल संकट से निपटने के बाबत देश में ऐसा कुछ होता नहीं दिखाई देता, जिससे आशा की किरणें दिखें। इसका सबसे बड़ा कारण कारगर नीति के अभाव में जल संचय, संरक्षण व प्रबंधन में नाकामी है। इसका खामियाजा समूचा देश कहीं जल संकट, तो कहीं सूखा और भीषण बाढ़ के रूप में भुगत रहा है। जलापूर्ति अधिकतर भूजल पर ही निर्भर है, लेकिन चाहे सरकारी मशीनरी हो, उद्योग, कृषि क्षेत्र हो या आम जन, सबने इसका बेतहाशा दोहन किया है। इससे पारिस्थितिकी तंत्र के असंतुलन की भयावह स्थिति पैदा हो गयी है।

ये संकेत हैं कि भविष्य में स्थिति कितनी विकराल हो सकती है। यह सब पानी के अत्यधिक दोहन, उसके रिचार्ज न होने के कारण जमीन की नमी खत्म होने, ज्यादा सूखापन आने, भूगर्भीय हलचल की लहरों व पानी में जैविक कूड़े से निकली मीथेन व दूसरी गैसों के इक_ा होने से सतह में अचानक गर्मी बढऩे का परिणाम है। हम चीन और अमेरिका से 124 प्रतिशत यानी दोगुने से भी अधिक 250 घन किलोमीटर भूजल का दोहन करते हैं, जबकि अमेरिका और चीन में यह आंकड़ा 112 घन किलोमीटर सालाना है।

साल 2011 में समूची दुनिया के भूजल का 25 फीसदी अकेले हमारे देश में था। हमारे यहां पानी की मांग और उपलब्धता में काफी अंतर है। इसमें बढ़ती आबादी ने प्रमुख भूमिका निभायी है। साल 2008 में देश में 634 अरब घन मीटर पानी की मांग के मुकाबले 650 अरब घन मीटर उपलब्धता थी। साल 2030 में यह उपलब्धता होगी केवल 744 अरब घन मीटर, जबकि मांग 1498 अरब घन मीटर। वर्ष 2000 में पानी की उपयोगिता 2000 क्यूबिक मीटर थी, जो 2025 में 1500 क्यूबिक मीटर रह जायेगी, जबकि आबादी 1।39 अरब होगी।

Previous articleस्कूल से बेहतर थे प्राचीन गुरुकुल
Next articleओलंपिक में भारत की आशा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here