Home लेख गुरु मंत्र: 365 प्रतिशत बढ़ोत्तरी का पक्का वादा, जिएँ असाधारण जीवन

गुरु मंत्र: 365 प्रतिशत बढ़ोत्तरी का पक्का वादा, जिएँ असाधारण जीवन

25
0
  • जीवन में जो भी सही और अच्छा लगे, उसे पूरी तन्मयता व जागरूकता के साथ करें
  • नागेश्वर सोनकेशरी

चौंकिए मत, यह कोई सियासी जुमला नहीं, न ही कोई मार्केटिंग स्ट्रेटेजी है । अपितु बिल्कुल सच बात है, और अब आप ही इसे करने वाले हैं। और यह संभव है, खुद के जीवन में प्रतिदिन 1त्न की उत्कृष्टता की बढ़ोत्तरी के साथ। यह बढोत्तरी आपको अपने जीवन के प्रत्येक पहलू में करनी होगी, रोज से थोड़ा और बेहतर करके। इसके लिए आपको कोई लंबी छलांग नहीं लगानी है , कोई रात-दिन एक नहीं करना है।

बस आप खुद से यह वादा करें, कि मैं बीते हुए कल की बजाए आज कुछ और बेहतर करूँगा, वह भी कम से कम 1 प्रतिशत अधिक। तो आप पाएंगे कि यह बढ़ोतरी महीने में 30 प्रतिशत और साल की समाप्ति में 365 प्रतिशत की पक्की ग्रोथ में तब्दील हो चुकी होगी। इसकी शुरुआत आप कभी भी कर सकते हैं। इसके लिए आपको अपने जन्मदिन या नए साल का इंतज़ार करने की कोई आवश्यकता नहीं है। क्योंकि कई अपडेशन मैं खुद में भी कर रहा हूँ व इसके लिए कोई मुहूर्त की क़तई आवश्यकता नहीं है। जब जागो तभी सवेरा वाली बात है। यह बेहतरी आप सर्वप्रथम अपने बौद्धिक आधार को थोड़ा विकसित करके अर्थात अपनी पढऩे वाली आदत में सुधार लाकर कर सकते हैं।

एक बार वॉरेन बफेट से स्मॉर्ट बनने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने बहुत सारी किताबों का बंडल दिखाते हुए जबाब दिया कि अच्छा पढ़ते रहिए, अमल में लाते रहिए स्मॉर्टनेस खुद ब खुद आ जाएगी। दूसरा अपने स्वास्थ्य को तरजीह देकर,क्योंकि बिना स्वस्थ जीवन के किसी भी प्रकार की तरक्की संभव ही नहीं है और कहते हैं कि स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी दौलत है बशर्ते आप इसका महत्व समझ सकें।

मैं देखता हूँ कि लोग अधिक धन कमाने के चक्कर में अपने स्वास्थ्य पर ध्यान नहीं देते व जब एक बार स्वास्थ्य बिगड़ता है तो वही कमाया हुआ धन उसे ठीक करने में लगाना पड़ता है व फिर भी तबियत पहले जैसी नहीं हो पाती है। साथ ही जीवन में कुछ नया आजमाकर,और ज्यादा प्यार भरे बनकर, तथा जिस भी फील्ड में आप हैं, उसमें रुचिपूर्वक, पूरी लगन और मेहनत से लगातार बेहतर करते हुए आप अपने जीवन को उत्कृष्टता की और ले जा सकते हैं । परन्तु याद रहे इसमें आप जो खुद से वादा करते हैं प्रतिदिन 1 प्रतिशत इजाफे का, इसे लगातार पक्का करते रहना होगा।

कई बार आप अपने जन्मदिन या नई साल की शुरुआत में कोई संकल्प या कुछ भी बेहतर करने की शुरुआत तो करते हैं परन्तु वह कुछ दिनों बाद आपके नियमित नहीं होने की वजह से वह संकल्प पूरा नहीं हो पाता और आप की परिस्थिति उस मसले में जस की तस बनी रहती है। बस इसी कारण से आपको अपनी बेहतरी के लिए प्रतिदिन लगा रहना होगा। इसके बाद आप यकीन मानिए कि कुछ दिनों बाद ही आपको मजा आने लगेगा। जैसे कि आप जिम जाना शुरू करते हैं व कुछ दिनों की मेहनत के बाद जब आपकी मसल्स दिखने लगते हैं, तो आप अपनी रखी हुई टी-शर्ट खुद ब खुद पहनने लगते है। ठीक इसी तरह जब आप उत्कृष्टता की और बढऩे लगते हैं, तो उस प्रतिदिन के प्रयास में आपको मजा आने लगेगा व आप अंदर से स्वत: बेहतर महसूस करने लग जाएंगे।

अपनी बेहतरी के लिए जीवन में जो भी सही और अच्छा लगे, उसे पूरी तन्मयता व जागरूकता के साथ करें। हमेशा अपने काम के चयन से पहले एक बार उसके परिणाम के बारे में अवश्य सोचें । हम प्रत्येक दिन कुछ न कुछ अवश्य चुनते हैं।यदि हमने चुनते समय पर्याप्त सजगता बरत ली तो काफ़ी हद तक हम ग़लत चुनाव की वजह से आने वाली परेशानियों से बचे रहेंगे।

Previous articleहिंदुत्व का सत्य एवं भ्रांति
Next articleआधुनिक काल में जियो और जीने दो की प्रासंगिकता

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here