Home » समरसता, स्वत्व व शुचिता के साथ आर्थिक विकास

समरसता, स्वत्व व शुचिता के साथ आर्थिक विकास

समरसता, स्व

  • रमेश शर्मा
    हाल में संपन्न राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की प्रतिनिधि सभा ने तीन महत्वपूर्ण आयामों पर कार्य करने का संकल्प व्यक्त किया । पहला भारत राष्ट्र के आर्थिक विकास की योजनाओं और समाज जीवन में शुचिता लाने, दूसरा व्यक्ति, समाज और राष्ट्र के स्वत्व का जागरण केलिये पाँच सूत्रीय कार्य और तीसरा आगामी एक वर्ष में देश के एक लाख स्थानों तक संघ कार्य आरंभ करने का संकल्प व्यक्त किया गया । राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की वर्ष में दो बड़ी बैठकें होतीं हैं। एक दशहरा दीपावली के आसपास कार्यकारी मंडल और दूसरी नवसंवत्सर के आसपास यह प्रतिनिधि सभा।
    इस वर्ष यह बैठक हरियाणा के पानीपत जिला अंतर्गत समालसा के पट्टीकल्याणा में संपन्न हुई । तीन दिन चली इस प्रतिनिधि सभा में संघ से संबंधित 34 संगठनों के 1474 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। संघ की यह विशेषता है कि वह भविष्य की कार्य योजना बनाने से पहले अपने संगठनात्मक स्वरूप और पिछली बैठकों के निर्णयों, प्रस्तावों और संकल्पों की समीक्षा करता है। दूसरी विशेषता है कि वह अपने ऊपर लगे आरोपों का कोई उत्तर नहीं देता और न हमलों से विचलित होता है। सेवा और समर्पण उसके कार्यकर्ताओं का संकल्प होता है। संभवतः यही उसकी शक्ति और निरंतर विस्तार का रहस्य भी है कि हजार विरोधों के बावजूद वह गतिमान है न दिशा बदली, न सिद्धांत बदला और न लक्ष्य। इस बैठक में भी संघ पर लगे आरोपों पर कोई विश्लेषण नहीं हुआ। यह बैठक कई मायनों में महत्वपूर्ण थी। इसमें विचार का प्रमुख बिन्दु था िक देश में कतिपय निहित स्वार्थी तत्वों द्वारा भारतीय समाज जीवन के ताने-बाने को तोड़कर राष्ट्र को क्षति पहुँचाने का जो षड्यंत्र किया जा रहा है उससे समाज को कैसे सावधान किया जाय। इसके लिये संघ ने कुल पाँच सूत्रीय कार्यक्रम बनाया है। जिसमें सामाजिक समरसता के लिये संगोष्ठी, सामाजिक मिलन कार्यक्रम, परिवार प्रबंध पर भी संगोष्ठी और मिलन, पर्यावरण संरक्षण के लिये जागरण अभियान, आत्मनिर्भरता के लिये स्वदेशी और स्वत्व जागरण अभियान और नागरिक कर्तव्य बोध का अभियान चलाना प्रमुख है। भारत स्वतंत्रता का अमृत महोत्सव मना रहा है पर कितने विषय हैं जिनमें भारत और भारतीय समाज स्वाधीन नहीं हो पाया, आत्मनिर्भर नहीं बन पाया। इसका कारण कहीं न कहीं स्वत्व और स्वदेशी चिंतन का अभाव रहा है। संघ के ये पाँच सूत्रीय कार्यक्रम इस भाव को जगाने में सहायक होंगे। संघ अपनी स्थापना के शताब्दी वर्ष आयोजन की तैयारी कर रहा है। 2025 में उसकी स्थापना के सौ वर्ष पूरे होंगे। संघ की इस बैठक में लिये गये संकल्पों में अपनी शताब्दी वर्ष के उत्सव आयोजन भर नहीं है अपितु उसने अपने शताब्दी आयोजन में भारत राष्ट्र की आत्मनिर्भरता का लक्ष्य भी निर्धारित किया है। इसलिए इस बैठक में आगामी दो वर्षों के कार्यों की पूरी रूपरेखा पर विचार किया गया। एक वर्ष की कार्य योजना को अंतिम रूप दिया गया।
    स्व आधारित विकास का संकल्प : प्रतिनिधि सभा ने अपना मत दोहराया कि विदेशी आक्रमणों और आंतरिक संघर्ष के बीच यदि भारत में उसकी साँस्कृतिक पहचान सुरक्षित है तो यह स्व आंतरिक प्रेरणा के कारण ही संभव रह सका । और भविष्य में यही भाव भारत को विश्व शक्ति और सम्मान के लक्ष्य को पूरा कराएगा। संघ ने माना कि संघर्ष काल में संतों व महापुरुषों के नेतृत्व ने संघर्षरत समाज के ‘स्व’ को बचाए रखा। और इसी प्रेरणा में स्वधर्म, स्वदेशी और स्वराज की ‘स्व’ त्रयी में निहित था इसलिए संघ ने इस स्वत्रियी भाव के जागरण पर जोर दिया। इसमें भारत राष्ट्र की परंपराओं, सांस्कृतिक स्वरूप और उन महापुरुषों की स्मृतियों तो संजोना जिनका जीवन राष्ट्र के स्वत्व के लिये रहा। बैठक में सभी अनुषांगिक संगठनों से अपेक्षा की गई कि वे स्थानीय स्तर पर अपने क्षेत्र में वर्ष भर इन विषयों से संबंधित आयोजन करें। प्रतिनिधि सभा ने इस बात को भी रेखांकित किया कि जहाँ अनेक देश भारत की ओर सम्मान और सद्भाव रखते हैं, वहीं भारत के ‘स्व’ आधारित इस पुनरुत्थान को विश्व की कुछ शक्तियाँ स्वीकार नहीं कर पा रहीं हैं। वे भारत विरोध के बहाने ढूंढती हैं और ऐसी शक्तियाँ देश के भीतर भी हैं और बाहर भी। ऐसे तत्व व्यक्तिगत स्वार्थ और भेदों को उभार कर समाज में परस्पर अविश्वास पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं, हिन्दुत्व पर नये नये प्रश्न खड़े कर रहे हैं, तंत्र के प्रति अनास्था और देश में अराजकता पैदा करने के नए-नए षड्यंत्र रच रहीं हैं। इन सबके प्रति सामाजिक जागरूकता केलिये भी आयोजन करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया ।
    शुचिता आधारित आर्थिक विकास: आर्थिक विकास व्यक्ति का हो, समाज का हो अथवा राष्ट्र का , उसमें शुचिता और सात्विकता होनी चाहिए। कदाचार, अनैतिक अथवा असामान्य तरीके का विकास स्थायी नहीं होता। चीन और पाकिस्तान की गिरती अर्थ स्थिति इसके उदाहरण हैं। इन दिनों विश्व में भारत एक उभरती अर्थ शक्ति है। सभा में इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि स्वाधीनता प्राप्ति के उपरांत भारत ने अनेक क्षेत्रों में महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ प्राप्त की हैं। प्रतिनिधि सभा ने यह निर्णय भी लिया कि आर्थिक विकास में शुचिता की प्रधानता केलिये भी सामाजिक जागरण अभियान चलाया जायेगा।
    परिवार परंपरा को सशक्त करना की आवश्यक : परिवार और कुटुम्ब परंपरा भारत की विशिष्टता है। परिवार के सामूहिक वातावरण में विकसित बच्चों में एक विशिष्ट संतुलन और समन्वय होता है जो एकल परिवार में नहीं होता। प्रतिनिधि सभा ने इस परिवार परंपरा को और सशक्त बनाने का अभियान में और तेजी लाने का भी मत व्यक्त किया गया। प्रतिनिधि सभा ने राष्ट्र के नवोत्थान के लिए परिवार संस्था का दृढ़ीकरण, बंधुता पर आधारित समरस समाज का निर्माण तथा स्वदेशी भाव के साथ उद्यमिता का विकास आदि उद्देश्यों की प्राप्ति के लिए विशेष प्रयास करने का संकल्प व्यक्त किया।
    प्रतिनिधि सभा का समाज से आव्हान : प्रतिनिधि सभा ने यह संकल्प भी व्यक्त किया कि अमृतकाल हमें भारत को वैश्विक नेतृत्व प्राप्त कराने के लिए सामूहिक उद्यम करने का अवसर प्रदान कर रहा है। अतएव यह आवश्यक है कि भारतीय चिंतन के अनुरूप सामाजिक, शैक्षिक, आर्थिक, लोकतांत्रिक, न्यायिक संस्थाओं सहित समाज जीवन के सभी क्षेत्रों में कालसुसंगत रचनाएँ विकसित करने के इस कार्य में संपूर्ण शक्ति से सहभागी हो, जिससे भारत विश्वमंच पर एक समर्थ, वैभवशाली और कल्याणकारी राष्ट्र के रूप में समुचित स्थान प्राप्त कर सके।
    एक लाख स्थानों तक संघ कार्य विस्तार : प्रतिनिधि सभा ने इस एक वर्ष में अपने कार्य विस्तार का भी लक्ष्य निर्धारित किया । अभी संघ 71355 स्थानों पर प्रत्यक्ष तौर से समाज सेवा कार्यों में अपनी भूमिका निभा रहा है। सभा ने अगले एक वर्ष में इस कार्य का विस्तार कर एक लाख स्थानों तक पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। यह संघ के कार्यकर्ताओं का सेवा कार्य के प्रति समर्पण का भाव है कि वर्ष 2020 में कोरोना आपदा के कारण जहाँ लगभग सभी संस्थाओं का कार्य प्रभावित हुआ वहीं संघ कार्य का विस्तार हुआ । 2020 में 38913 स्थानों पर 62491 शाखा, 20303 स्थानों पर साप्ताहिक मिलन व 8732 स्थानों पर मासिक मंडली चल रही थी।

त्व व शुचिता के साथ आर्थिक विकास

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd