Home लेख नागरिक बोध: उत्तर कोरिया एशिया के लिए बड़ा खतरा

नागरिक बोध: उत्तर कोरिया एशिया के लिए बड़ा खतरा

110
0

उत्तर कोरिया और अमेरिका की पांच दशकों से चली आ रही दुश्मनी दुनिया के लिए खतरा बन सकती है। उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच लंबे समय तक शाब्दिक प्रहार के बाद ट्रम्प शासन के दौरान किम जोंन शांत हुआ। उतर कोरिया अमेरिका को अनेक बार युद्ध की धमकी दे चुका है। कम आबादी वाला यह उत्तर कोरिया परमाणु सम्पन्न देश है। उत्तर कोरिया और अमेरिका की शत्रुतापूर्ण रवैया दुनिया के लिए खतरा है।

उत्तर कोरिया ने अमेरिका को अल्टीमेटम देते हुए कहा है कि उत्तर कोरिया परमाणु कार्यक्रम जारी रखेगा। अमेरिका के राष्ट्रपति का संसद में दिए बयान से नाराज उतर कोरिया ने अमेरिका को कहा है कि बाइडन ने बहुत बड़ी भूल की है और अब परिणाम भुगतने के लिए अमेरिका को तैयार रहना होगा। अमरीका उत्तर कोरिया पर दबाव बनाकर भूल कर रहा है। इतना ही नहीं साउथ कोरिया को परमाणु बनाने के लिए प्रोत्साहित करके बहुत बड़ी भूल कर रहा है। यह शत्रुता अमेरिका को भारी पड़ सकती है। अमेरिका शर्मसार करने वाली दोहरी नीति अपना रहा है।

अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन ने संसद में बयान दिया था कि उत्तर कोरिया और ईरान के परमाणु कार्यक्रम दुनिया के लिए खतरा है। इस पर उत्तर कोरिया अमेरिका को चेतावनी देते हुए कहा है कि अमेरिका सावधान हो जाए। यह दुश्मनी और महंगी पड़ेगी। अमेरिका को गलत बयानबाजी नहीं करनी चाहिए। अमेरिका विश्व महाशक्ति है। अमेरिका की शत्रुता उतर कोरिया से पांच दशकों से चली आ रही है। परंतु अमेरिका को सोचना चाहिए कि उसके गलत बयान विश्व के लिए खतरा हो सकता है। एक वर्ष पूर्व अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनातनी बढ़ी थी। कई दिनों तक अशांति और बेचैनी के बीच समय गुजरा था। आज दो परमाणु सम्पन्न देश भिड़ते है तो दुनिया मे अशांति के बादल मंडराना स्वाभाविक है।
कांतिलाल मांडोत, सूरत

Previous articleप्रह्लाद खोड़ा द्वारा चलायी गयी विकास योजना के विरोध में आंदोलन: लक्षद्वीप पर बवंडर क्यों उठा ?
Next articleयह धर्म नहीं

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here