भारत का गौरव है फिर से विकसित गांधीनगर रेलवे स्टेशन

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp
  • इस परियोजना ने सिखाया कि भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों का विकास कैसे किया जा सकता है

‘स्टेशन एक ऐसी चीज है, जो एक शहर का निर्माण कर सकती है।’ गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास शहर को बढ़ावा देने वाले घटकों के रूप में कार्य करेगा, निवेश चक्र का निर्माण करेगा, नौकरी के अवसरों का सृजन करेगा और मोटे तौर पर गुजरात राज्य की राजधानी, गांधीनगर की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करेगा।

एस.के. लोहिया

नील आर्मस्ट्रांग ने कहा था, ‘यह मनुष्य के लिए एक छोटा कदम है, लेकिन मानव जाति के लिए एक विशाल छलांग है।’ यह कथन, स्टेशन पुनर्विकास के सन्दर्भ में उपयुक्त है। भारत का पहला पुनर्विकसित रेलवे स्टेशन है- गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन, जो गुजरात में स्थित है और जिसे हाल ही में राष्ट्र को समर्पित किया गया है। गांधीनगर रेलवे स्टेशन के उद्घाटन के साथ, देश में सम्पूर्ण स्टेशन परिदृश्य पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। जैसा कि सैंटियागो कालात्रावा ने कहा है, ‘स्टेशन एक ऐसी चीज है, जो एक शहर का निर्माण कर सकती है।’ गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन का पुनर्विकास शहर को बढ़ावा देने वाले घटकों के रूप में कार्य करेगा, निवेश चक्र का निर्माण करेगा, नौकरी के अवसरों का सृजन करेगा और मोटे तौर पर गुजरात राज्य की राजधानी, गांधीनगर की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करेगा।

यह एक अनूठी परियोजना है, जिसमें आईआरएसडीसी (भारतीय रेलवे स्टेशन विकास निगम) के माध्यम से गुजरात सरकार और रेल मंत्रालय की साझेदारी में गरुड़ (गांधीनगर रेलवे और शहरी विकास निगम) नामक एक संयुक्त उद्यम कंपनी का गठन किया गया है।इस पुनर्विकसित स्टेशन में पटरियों के ऊपर 318 कमरों वाला फाइव स्टार कन्वेंशन होटल है। यह भारत में अपनी तरह की पहली परियोजना है, जो मुंबई और बेंगलुरु जैसे भूमि की कमी झेल रहे शहरों में इस तरह के विकास का मार्ग प्रशस्त करेगी।

गांधीनगर में पहले से ही ‘महात्मा मंदिर’ है, जो विश्व स्तरीय सम्मलेन और प्रदर्शनी केंद्र है। इसे होटल और रेलवे स्टेशन के साथ जोड़ा गया है, ताकि ये सुविधाएं एक दूसरे के साथ तालमेल से काम कर सकें। यह होटल, कन्वेंशन सेंटर के लिए लॉजिस्टिक्स को आसान बनाएगा तथा इसके बेहतर उपयोग में मदद करेगा। ठीक इसी तरह कन्वेंशन सेंटर भी होटल के बेहतर उपयोग में सहायता प्रदान करेगा।

कन्वेंशन सेंटर में अधिक आयोजनों से होटल उद्योग, खान-पान और पर्यटन के लिए अधिक अवसर पैदा होंगे। हेलीपैड प्रदर्शनी मैदान और राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को समर्पित दांडी कुटीर संग्रहालय निकट में ही स्थित हैं,जिन्हें इन नयी परियोजनाओं से प्रोत्साहन मिलने की उम्मीद है। गरुड़ और आईआरएसडीसी ने इस पुनर्विकसित स्टेशन के साथ-साथ आसपास के क्षेत्रों में और अधिक सुविधाएं जोडऩे की योजना बनाई है, ताकि स्थानीय क्षेत्र को और बढ़ावा मिल सके तथा इसे सभी क्षेत्र के लोगों के लिए एक सुरुचिपूर्ण गंतव्य बनाया जा सके।

दो नई ट्रेन 16 जुलाई 2021 से शुरू की जा रही हैं। पहली वाराणसी के लिए एक साप्ताहिक सुपरफास्ट और दूसरी वरेथा के लिए एक दैनिक मेमू ट्रेन सेवा की शुरुआत हो रही है। इस क्षेत्र के लिए रेल मंत्रालय के पास कई महत्वाकांक्षी योजनाएं हैं, और चूंकि गांधीनगर क्षेत्र को स्टेशन के पुनर्विकास की इन पहलों के कारण आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलता है, इसलिए अधिक ट्रेन सेवाएं शुरू की जा सकती हैं।

पुनर्विकसित स्टेशन सात सी के सिद्धांतों का पालन करता है जो आईआरएसडीसी द्वारा पुनर्विकसित रेलवे स्टेशनों की योजना बनाने के लिए मूल सिद्धांत हैं। यात्रियों को अलग-अलग करने के लिए, प्रस्थान करने वाले यात्रियों के लिए कॉनकोर्स और आने वाले यात्रियों के लिए दो सबवे तैयार करने की योजना बनाई गई है। स्टेशन भविष्य के लिए तैयार है, और स्टेशन पर यात्रियों की संख्या बढऩे पर प्रस्थान करने वाले यात्रियों के लिए कॉनकोर्स का उपयोग किया जाएगा।

हालांकि, निकट भविष्य में, यात्रियों के साथ-साथ स्थानीय जनता की मांगों को पूरा करने के लिए इस क्षेत्र में खुदरा, भोजन और मनोरंजन के आउटलेट खोलने की योजना है। बिग बाजार और शॉपर्स स्टॉप जैसे बाजार के संचालकों ने भी अपने मिनी आउटलेट खोलने में रुचि दिखाई है, जिससे यात्रियों और स्थानीय लोगों के लिए स्टेशन पर खरीदारी करना सुविधाजनक हो गया है। यह पुनर्विकसित स्टेशन एक ‘सिटी सेंटर रेल मॉल’ की तरह काम करेगा जिसके विभिन्न कार्यों में से एक यात्रा से जुड़ी सुविधाएं प्रदान करना भी होगा।

स्टेशन का उद्देश्य पोर्टलैंड पॉज़ोलाना सीमेंट, फ्लाई ऐश ईंटों आदि जैसी टिकाऊ सामग्रियों के उपयोग के माध्यम से प्राकृतिक निर्मित पर्यावरण का संरक्षण करना और ऊर्जा कुशल डिजाइनों, वर्षा जल संचयन और पानी के पुन:उपयोग के माध्यम से पानी, बिजली की आवश्यकताओं को कम करना है। ‘इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट एंड कंस्ट्रक्शन (ईपीसी)’ मॉडल पर बनाया गया, गांधीनगर रेलवे स्टेशन पुनर्विकास के लिए इस मॉडल को अपनाने वाला भारतीय रेलवे का पहला स्टेशन है।

पुनर्विकसित स्टेशन पर अपनी तरह का अनूठा, स्तंभ मुक्त चिकना और किफायती स्पेस फ्रेम 99-मीटर (105 मीटर कर्विलिनियर) स्पैन ओवर प्लेटफॉर्म (भारतीय रेलवे में सबसे लंबा ऐसा स्पैन जिसमें केवल 120 किलोग्राम/वर्गमीटर इस्पात शामिल है) हर मौसम में सुरक्षित सीमलेस एल्युमिनियम शीटिंग के साथ प्रदान किया गया है। सबवे उपलब्ध कराना, ऊंची इमारत को सहारा देने के लिए बड़ी नींव और रूफ ट्रस के माध्यम से लॉन्च करना अद्वितीय इंजीनियरिंग चुनौतियां थीं जिन्हें कार्य के निष्पादन के दौरान सफलतापूर्वक पूरा किया गया था।

वास्तव में, इस परियोजना से मिली सीख हमें शहरों के भीड़-भाड़ वाले इलाकों में ऐसी जटिल परियोजनाओं को पूरा करने में मदद करने वाली है और इस परियोजना का प्रभाव दूर-दूर तक होगा।

32 थीम के साथ हर रोज एक थीम पर आधारित प्रकाश व्यवस्था का आयोजन गांधीनगर स्टेशन की प्रमुख विशेषताओं में से एक है। यह भारतीय रेलवे में इस तरह की सुविधा के साथ अब तक का पहला स्टेशन है। गांधीनगर रेलवे स्टेशन की योजना के अनुसार थीम आधारित प्रकाश व्यवस्था की विशेषता का उद्देश्य इस पुनर्विकसित स्टेशन का व्यापक रूप में उपयोग करना है। एलईडी लाइट्स का उपयोग स्टेशन की इमारत को खूबसूरत तरीके से दिखाने और सूर्यास्त के बाद इस इमारत की खूबसूरती में चार चांद लगाने के लिए हर रोज रंग बदलने के मुताबिक किया गया है।

इस स्थल को आम आदमी के लिए एक गंतव्य स्थल बनाने के लिए डांसिंग लाइटों का उपयोग किया जाएगा। जब स्टेशन की लाइट इसके सामने स्थित दांडी कुटीर और इसकी पृष्ठभूमि में अहमदाबाद/गांधीनगर क्षेत्र की 77 मीटर की सबसे ऊंची इमारत को प्रकाशवान करेगी तो इसकी छटा देखने लायक होगी। गांधीनगर की जनता और दांडी कुटीर आने वाले पर्यटक इस पुनर्विकसित स्टेशन के आस-पास के क्षेत्र में विकसित की गई हरित पट्टी के विहंगम दृश्य का अवलोकन कर सकेंगे।

इसके साथ-साथ इन विकास कार्यों में, ‘क’ रोड को ‘ख’ रोड से जोडऩे के लिए बनाए गए नए 18 मीटर चौड़े अंडरपास के साथ-साथ गुजरात सरकार के सड़क और भवन विभाग द्वारा महात्मा मंदिर और रेलवे स्टेशन के निकट के होटल का निर्माण इस क्षेत्र का कायापलट कर देगा, जो अब तक अधिकांश तौर पर एक जीवंत स्थल की जगह एक निर्जन स्थान था। यह स्थल अब इस शहर का एक ऐसा केंद्र होगा जहां गांधीनगर के लोग न केवल घूमने अपितु अन्य विभिन्न उद्देश्यों के लिए जाना पसंद करेंगे।

इस विकास का उद्देश्य स्टेशन के आसपास के पूरे क्षेत्र को शहर के एक ऐसे स्थल के रूप में परिवर्तित करना है जहां गांधीनगर के लोग जाना पसंद करेंगे, और जिस पर उन्हें गर्व होगा। गांधीनगर कैपिटल रेलवे स्टेशन को राष्ट्र के प्रति समर्पित करने के साथ, स्टेशन के पुनर्विकास कार्यक्रम में समग्र रूप से तेजी आई है। कई और स्टेशनों का पुनर्विकास किया जाना हैं। इस अभियान के तहत 125 स्टेशनों के पुनर्विकास का कार्य प्रगति पर है। इसमें से, आईआरएसडीसी 63 स्टेशनों पर कार्य कर रहा है, और आरएलडीए 60 स्टेशनों पर कार्य कर रहा है, जिसमें दो स्टेशन क्षेत्रीय रेलवे द्वारा विकसित किए जा रहे हैं। रियल एस्टेट विकास के साथ-साथ 123 स्टेशनों के पुनर्विकास के लिए कुल निवेश 50,000 करोड़ रुपये से अधिक है।

आईआरएसडीसी के तौर पर हम भारत सरकार के स्टेशन पुनर्विकास कार्यक्रम के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस कार्य अत्यंत उत्साह और दृढ़ संकल्प के साथ संचालित करेंगे। इस कार्यक्रम में रेलवे से यात्रा करने वाले आम आदमी की सेवा के लिए अभिनव दृष्टिकोण और समाधान की आवश्यकता है, जिसे हाल ही में विकसित किए गए गांधीनगर कैपिटल और हबीबगंज रेलवे स्टेशन पुनर्विकास परियोजनाओं में प्रदर्शित किया गया है।

इस कार्यक्रम के लिए न केवल रेलवे स्टेशनों अपितु बड़े पैमाने पर शहरों और देश के आत्मानिर्भर भारत की ओर बढऩे के संकल्प और कायाकल्प में सहायता के लिए सार्वजनिक और निजी साझेदारी परियोजनाओं में निर्माणकर्ताओं, निर्माता, अनुबंधकर्ताओं, योजनाकारों, वास्तुकारों, डिजाइनरों, खुदरा विक्रेताओं, विज्ञापनदाताओं, और सबसे महत्वपूर्ण, निवेशकों/डेवलपर्स के समर्थन और सक्रिय भागीदारी की आवश्यकता है।
(लेखक भारतीय रेलव स्टेशन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन के एमडी और सीईओ हैं।)

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Recent News

Related News