‘बायोप्लास्टिक’ है भविष्य का विकल्प

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn
Share on pinterest
Pinterest
Share on pocket
Pocket
Share on whatsapp
WhatsApp
  • िरषभ िमश्रा
    प्लास्टिक न केवल इंसानों बल्कि प्रकृति और वन्यजीवों के लिए भी खतरनाक है, लेकिन प्लास्टिक के उत्पादों का उपयोग दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है, जिससे प्लास्टिक प्रदूषण सबसे अहम पर्यावरणीय मुद्दों में से एक बन गया है। एशिया और अफ्रीकी देशों में प्लास्टिक प्रदूषण सबसे अधिक है। यहां कचरा एकत्रित करने की कोई प्रभावी प्रणाली नहीं है। तो वहीं विकसित देशों को भी प्लास्टिक कचरे को एकत्रित करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, जिस कारण प्लास्टिक कचरा लगातार बढ़ता जा रहा है। इसमें विशेष रूप से ‘‘सिंगल यूज प्लास्टिक’’ यानी ऐसा प्लास्टिक जिसे केवल एक ही बार उपयोग किया जा सकता है, जैसे प्लास्टिक की थैलियां, बिस्कुट, स्ट्रॉ, नमकीन, दूध, चिप्स, चॉकलेट आदि के पैकेट। प्लास्टिक की बोतलें, जो कि काफी सहुलियतनुमा लगती हैं, वे भी शरीर और पर्यावरण दोनों के लिए खतरनाक हैं। इन्हीं प्लास्टिक का करोड़ों टन कूड़ा रोजाना समुद्र और खुले मैदानों आदि में फेंका जाता है। जिससे समुद्र में जलीय जीवन प्रभावित हो रहा है। समुद्री जीव मर रहे हैं। कई प्रजातियां विलुप्त हो चुकी हैं।
    जमीन की उर्वरता क्षमता निरंतर कम होती जा रही है। वहीं जहां-तहां फैला प्लास्टिक कचरा सीवर और नालियों को चोक करता है, जिससे बरसात में जलभराव का सामना करना पड़ता है। भारत जैसे देश में रोजाना सैंकड़ों आवारा पशुओं की प्लास्टिकयुक्त कचरा खाने से मौत हो रही है, तो वहीं इंसानों के लिए प्लास्टिक कैंसर का भी कारण बन रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने भी स्वतंत्रता दिवस पर अपने भाषण में सिंगल यूज प्लास्टिक का इस्तेमाल बंद करने की अपील की थी। जिसके मद्देनज़र लोग अब पारम्परिक प्लास्टिक के विकल्प के रूप में अब नए प्रकार के प्लास्टिक को अधिक और व्यापक रूप से स्वीकार करने लगे हैं, जो कि पौधों से तैयार किया जाता है। म
    ौजूदा पेट्रोलियम आधारित प्लास्टिक टिकाऊ हल्के और खाद्य सामग्री के लिए अनुकूल तो है, लेकिन जलवायु परिवर्तन, अपशिष्ट, समुद्री प्रदूषण, और ख़राब वायु गुणवत्ता में इनकी बढ़ती भूमिका को देखते हुए इसे चरणबद्ध तरीके से समाप्त किये जाने की आवश्यकता है| इसमें पेट्रोलियम आधारित प्लास्टिक का स्थान लेने का प्रमुख दावेदार बायोप्लास्टिक है। बायोप्लास्टिक पेट्रोलियम की बजाय अन्य जैविक सामग्रियों से बने प्लास्टिक को संदर्भित करता है। बायोप्लास्टिक बायोडिग्रेडेबल और कंपोस्टेबल प्लास्टिक सामग्री है। इसे मकई और गन्ना के पौधों से शुगर निकालकर तथा उसे पॉलिलैक्टिक एसिड यानी कि पीएलए में परिवर्तित करके प्राप्त किया जाता है। इसे सूक्ष्मजीवों के पॉली हाइड्रोक्सी एल्केनोएट्स यानि कि पीएचए से भी बनाया जा सकता है।
    पॉलीलैक्टिक एसिड प्लास्टिक का आमतौर पर खाद्य पदार्थों की पैकेजिंग में उपयोग किया जाता है। जबकि पॉली हाइड्रोक्सी एल्केनोएट्स का अक्सर चिकित्सा उपकरणों जैसे-टाँके और कार्डियोवैस्कुलर पैच (हृदय संबंधी सर्जरी) में प्रयोग किया जाता है। बायोप्लास्टिक में एक समान आणविक संरचना और गुण होते हैं, लेकिन वे प्राकृतिक संसाधनों जैसे कि पौधों पर आधारित स्टार्च, और वनस्पति तेलों से प्राप्त होते हैं। ये ठीक से निपटाने पर अपघटित भी हो जाते हैं। पारम्परिक प्लास्टिक का अक्सर दोबारा इस्तेमाल नहीं किया जाता है, इसे अन्य ठोस कचरे के साथ जला दिया जाता है। लेकिन पीएलए और पीएचए जैव अपशिष्ट हैं, और वे अनुकूल पर्यावरणीय परिस्थितियों में ख़त्म हो जाते हैं। पेट्रोलियम आधारित प्लास्टिक में कार्बन का हिस्सा ग्लोबल वार्मिंग में योगदान देता है जबकि बायोप्लास्टिक्स जलवायु के अनुकूल है।

Never miss any important news. Subscribe to our newsletter.

Leave a Reply

Recent News

Related News