Home » भारत का ऐसा अनोखा स्कूल, जहां रविवार को भी नहीं होती है छुट्टी

भारत का ऐसा अनोखा स्कूल, जहां रविवार को भी नहीं होती है छुट्टी

छात्र जीवन में रविवार एक त्यौहार से कम नहीं होता। हर एक विधार्थी सोमवार से लेकर शनिवार तक इस संडे का इंतजार करता है और उसे फनडे मानकर खूब मस्ती करता है। लेकिन यह कहा जाए कि भारत में एक विधालय ऐसा भी है जहां रविवार को भी कक्षाएं लगती हैं और इतना ही नहीं वहां बच्चे बड़े खुशी से पढ़ने जाते हैं। हालांकि, यह स्कूल मंडे यानी सोमवार को बंद रहता है। इतना ही नहीं यह स्कूल करीब 100 वर्षों से भी अधिक समय से चल रहा है। आइए आपको बताते हैं इस स्कूल के बारें में…

कोलकाता के गोपालपुर में है स्कूल

भारत का यह अनोखा स्कूल पश्चिम बंगाल राज्य में है, जो कि कोलकाता शहर के गोपालपुर गांव में स्थित है। इस स्कूल का नाम गोपालपुर मुक्ताकेशी विद्यालय रखा गया है।

कब हुई थी स्कूल की स्थापना

स्कूल की स्थापना अंग्रेजों के समय 5 जनवरी, 1922 को की गई थी। स्कूल 13 बच्चों से शुरु की गई थी। स्कूल का नाम पास में ही स्थित एक देवी मां के मंदिर के नाम पर मुक्ताकेशी रखा गया था। स्कूल करीब 3 एकड़ में फैला है।

क्यों लगती हैं रविवार को कक्षाएं

इस स्कूल की स्थापना भूपेंद्रनाथ नायक ने की थी, वो एक स्वतंत्रता सेनानी थे। उन्होंने इस स्कूल में अंग्रेजी न पढ़ाने और रविवार को खोलने का फैसला किया था। इतना ही नहीं बच्चे यहां पढ़ने के लिए पूरी उपस्थिति दर्ज कराते थे। हालांकि, साल 1925 में अंग्रेजों की दबाव की वजह से अंग्रेजी को पाठ्यक्रम में जोड़ लिया गया था, लेकिन स्कूल खोलने के नियम में बदलाव नहीं किया गया।

तीन एकड़ में फैली है स्कूल

स्कूल 3.3 एकड़ से अधिक जगह में बना हुआ है। बताया जाता है कि इस स्कूल के लिए उस समय के बड़े जमींदार बिजॉय कृष्ण कुमार और अविनाश चंद्र हलदर ने जमीन दान की थी।

Swadesh Bhopal group of newspapers has its editions from Bhopal, Raipur, Bilaspur, Jabalpur and Sagar in madhya pradesh (India). Swadesh.in is news portal and web TV.

@2023 – All Right Reserved. Designed and Developed by Sortd