रायपुर।नया रायपुर के जंगल सफारी में जू का निर्माण लगभग पूरा होगया है। जू में दो व्हाइट टाइगर नजर आएंगे। जानवरों के लिए 10 बाड़े का निर्माण किया गया है। वहां पर भी तमाम तरह के जानवर रखे जाएंगे। वहीं लोगों के लिए अगस्त महीने से जू खुलेगा।
- जंगल सफारी के 50 हेक्टेयर में बड़े जू का निर्माण किया जा रहा है। जहां पर कुल 37 बाड़े बनाए जाएंगे। अब तक उसमें से 10 बाड़े बनकर तैयार हो गए है। साथ ही एंट्री पाइंट का निर्माण भी पूरा हो चुका है। इसी महीने के अंत तक जानवरों की शिफ्टिंग का काम भी पूरा किया जाएगा।

- जू में पर्यटकों को दो व्हाइट टाइगर भी दिखाई देंगे। बिलासपुर के कानन पेंडारी से दोनों व्हाइट टाइगर को सफारी के जू में लाया जाएगा। इसी पूरी प्रक्रिया हो चुकी है। इसके अलावा लॉयन व दरियाई धोड़ा भी बाड़े में नजर आएंगे। ओडिसा से दोनों तरह के जानवरों को लाने की तैयारी की गई है। वहीं नए साल तक पूरे बाड़े का निर्माण होने के बाद जू काे पूरी तरफ से ओपन कर दिया जाएगा।


बाड़े के करीब ही लोगों के चलने के लिए पाथवे

- जू में बाड़े के करीब ही पाथवे का निर्माण किया जाएगा। बाड़े को जालियों से घेरा जाएगा। साथ ही पाथवे के किनारे भी जालियां लगाई जाएगी। 20 मीटर दूर से ही लोगों को जानवर देखने को मिलेगा। वहीं कुछ विशेष पर्यटकों के लिए गाड़ी भी चलाने की तैयारी की जा रही है, ताकि छत्तीसगढ़ के जू को बाकी राज्यों और देशों में पहचान मिल सके।


नंदनवन से शिफ्ट होंगे पशु-पक्षी

- पहले नंदनवन में ही मिनी जू बनाने की तैयारी की जा रही थी, लेकिन वहां के पशु-पक्षियों को सफारी के जू में शिफ्ट किया जाएगा। गर्मी की वजह से अब तक नहीं किया जा सका था, लेकिन अब वन विभाग पशु-पक्षियों की शिफ्टिंग जल्द ही करेगा। इसके लिए सभी विभागों ने अनुमति दे दी है।


बाड़े के भीतर ठोग का निर्माण

- जलीय जीव-जंतु के लिए ऐसे बाड़े का निर्माण किया गया है, जहां पर टब जैसे आकार में पानी स्टोर कर रखे और उसमें जलीय जीव रह सके। इसलिए बाड़े के भीतर ही गोल आकार के टब बनाए जाए रहे है, जिसमें ठोग का निर्माण भी किया जा रहा है। इसमें जलीय जीव-जंतु बैठ सकेंगे।


मध्यभारत का सबसे बड़ा सफारी व जू बनेगा

- नया रायपुर में मध्यभारत के सबसे बड़ा जू और सफारी बनाने की तैयारी की गई है। इसलिए सारी सुविधाएं जू और सफारी की जा रही है। इससे बाहरी लोगों के साथ प्रदेश स्तरीय लोग आ सकेंगे। वहीं जू के आसपास पिकनिक स्पॉट जैसे निर्मित किया जाएगा, ताकि वहां पर घूमने आने वालों के लिए खाने-पीने की सुविधा मिल सकेगी।


ऐसे समझें, ओवर ऑल प्रोजेक्ट को

- कुल 37 बाड़ा का होना है निर्माण

- अब तक 10 बाड़ा बनकर तैयार

- 50 हेक्टेयर में बनेगा जू

- 12 करोड़ रुपए में सफारी का जू

- 30 तरह के जानवर और पक्षी

जल्द कम्पलीट हो जाएगा जू

सफारी में जू का निर्माण हो रहा है। अब तक 10 बाड़े का निर्माण किया जा चुका है। इसी 10 बाड़े से ही जू को शुरू करेंगे। दो वाइट टाइगर को जल्द ही बिलासपुर से लाया जाएगा और भी तरह के जानवरों को लाने की अनुमति मिल गई है। शिफ्ट करने के बाद अगस्त से शुरू कर दिया जाएगा।

-एम मरसी बेला, संचालक, जंगल सफारी

विदेश