शादी और परिवार के बारे में महिलाओं की सोच में काफी बदलावा अब गया है। अब वह अपने करियर में एक मुकाम तक पहुंचने के बाद ही शादी और परिवार की ओर ध्यान देना चाहती हैं। एक अध्ययन में कहा गया है कि पिछले 15 साल में 50 साल से अधिक उम्र में मां बनने वाली महिलाओं की संख्या में 300 फीसदी का इजाफा हुआ है। 

यह आंकड़े ब्रिटेन के ऑफिस फॉर नेशनल स्टैटिस्टक्सि ने जारी किए हैं। इसमें इंग्लैंड और वेल्स की महिलाओं के आंकड़ों को मुख्य रूप से शामिल किया गया है। इन आंकड़ों की मानें तो 55 साल या इससे अधिक उम्र की महिलाओं के गर्भवती होने की संख्या में 10 गुना इजाफा हुआ है। 
आंकड़ों में एक और चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। इसमें कहा गया है कि ज्यादातर महिलाएं गर्भवती होने के लिए किसी अन्य देश की आईवीएफ क्लीनिक की मदद लेते हैं, जबकि शिशु को जन्म देने के लिए वह स्वदेश लौट आती हैं। 

गौरतलब है कि हाल ही में हॉलीवुड अभिनेता सिलवेस्टर स्टेलोन की 54 वर्षीय पत्नी ब्रिगेट नीलसेन ने गर्भवती होने की जानकारी दी थी। कुछ फर्टिलिटी विशेषज्ञों का कहना है कि विदेशी आईवीएफ क्लीनिक बिना सोचे-समझे अधिक उम्र की महिलाओं को गर्भवती होने में मदद कर रहे हैं। अधिक उम्र में गर्भ धारण करने वाली महिलाओं में बच्चों के पालन–-पोषण की मानसिक और शारीरिक क्षमता कम हो जाती है।

उनकी सेहत के लिए यह ठीक नहीं होता है। रॉयल कॉलेज ऑफ ऑब्सेट्रीशियन एंड गायनेकोलॉजिस्ट की प्रवक्ता डॉ.दाघिनी राजसिंगम का कहना है कि अधिक उम्र की महिलाओं का गर्भधारण करना पेचीदा होता है। इसमें अधिक संसाधन लगते हैं और नतीजे पर काफी खतरे हो सकते हैं। ब्रिटेन में एनएचएस के नियमों के मुताबिक 42 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को मुफ्त में फर्टिलिटी ट्रीटमेंट नहीं दिया जा सकता है। इनमें सफल होने की संभावना अधिक नहीं होती है।

क्या कहते हैं आंकड़े
- 2001 में 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं में बच्चों को जन्म देने की संख्या 55 थी, जो 2016 में बढ़कर 238 पहुंच गई। 
- 2001 में जहां 55 साल की उम्र में सिर्फ दो महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया था, वहीं 2016 में 20 महिलाओं ने बच्चों को जन्म दिया।
- 2001 से 2016 के बीच 50 साल से अधिक उम्र की महिलाओं ने 1859 बच्‍चों को जन्म दिया। इसमें 55 साल अधिक उम्र की महिलाओं को जन्मे 153 शिशु भी शामिल हैं।

विदेश