रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक के रूप में मुकेश अंबानी का कार्यकाल 5 साल बढ़ाने के लिये शेयरधारकों से मंजूरी मांगी है। रिलायंस इंडस्ट्रीज के निदेशक मंडल में 61 वर्षीय अंबानी 1977 से हैं। उनके पिता और समूह के संस्थापक धीरूभाई अंबानी का 6 जुलाई 2002 में निधन होने के बाद वह कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक बने। 


कंपनी ने शेयरहोल्डर नोटिस में अंबानी को मौजूदा कार्यकाल समाप्त होने की तिथि यानी 19 अप्रैल 2019 से फिर से 5 साल के लिए नियुक्त किए जाने का प्रस्ताव किया है। कंपनी की 41वीं सालाना आम बैठक 5 जुलाई को मुंबई में होगी। नोटिस में कहा गया है कि मुकेश अंबानी को सालाना 4.17 करोड़ रुपये वेतन दिया जाएगा। इसके अलावा उन्हें 59 लाख के अन्य लाभ और भत्ते मिलेंगे। उनके इस मेहनताना में सेवानिवृत्ति लाभ शामिल नहीं है। साथ ही उन्हें शुद्ध लाभ के आधार पर बोनस भी मिलेगा। 

मुकेश अंबानी ने 2008-09 से अपना वेतन, अन्य लाभ, भत्ते और कमीशन 15 करोड़ रुपये नियत कर रखा है। उससे पहले उनका वेतन सालाना करीब 24 करोड़ रुपये था। लगातार 10 साल से उनके वेतन में वृद्धि नहीं हुई है। नए प्रस्ताव के मुताबिक तो उनका वेतन घटकर करीब 5 करोड़ रुपये ही रह जाएगा। 

इसके साथ ही यह भी कहा गया है कि मुकेश अंबानी और उनके परिवार को सुरक्षा मुहैया कराने में जो खर्च आएगा उसे अंबानी के वेतन, भत्ते का हिस्सा नहीं माना जाएगा। इस राशि को उनके वेतन पैकेज में शामिल नहीं किया जाएगा। 

धीरूभाई अंबानी के निधन के बाद मुकेश अंबानी आरआईएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक बने। वहीं उनके छोटे भाई अनिल अंबानी को उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक नियुक्त किया गया। दोनों भाई 2005 में अलग हो गए और पिता के कारोबार को आपस में बांट लिया। इसके अलावा आरआईएल ने चालू वित्त वर्ष में गैर-परिवर्तनीय डिबेंचर्स के जरिए 20,000 करोड़ रुपये जुटाने की भी शेयरधारकों से मंजूरी मांगी है। 

विदेश