भोपाल 

रविन्द्रनाथ टैगोर ने जिन्होंने राष्ट्र गान लिखा, उन्होने कभी कालेजों में शिक्षा ग्रहण नही की, वो तो घर में ही पढे लिखे। चाहे क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर हो सा अमिताभ बच्चन। इन सबके थोडी ना नंबर अच्छे आए थे।लेकिन इन्होने अपने टेलेंट के बलबूते पर ये मुकाम हासिल किया है, इसलिये निराश होने की जरुरत नही है।ये ना समझे कि परीक्षा में अच्छे नंबर ही आए। कम नंबर भी आते है तो कोई बात नहीं रास्ते बहुत है।रचनात्मक लेखक चाहिए, फ़ूड वैज्ञानिक, बैंकिंग सेवा, मौसम विज्ञान देश में पढ़ाई के कई विकल्प है। यह बात आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 'हम छू लेंगे आसमां' कार्यक्रम के दूसरे चरण के तहत प्रदेश भर के छात्रों से संवाद के दौरान कही।

दरअसल, 'हम छू लेंगे आसमां' कार्यक्रम के तहत मुख्यमंत्री प्रदेश भर के छात्रों से संवाद कर रहे थे. मुख्यमंत्री ने परीक्षा में कम अंक पाने वाले छात्रों को भी संबोधित किया। इस दौरान सीएम ने करियर और अकादमी के विकल्पों की जानकारी दी।उन्होंने कहा कि जुलाई से सीएम जन कल्याण योजना लागू की जाएगी, जिसका फायदा छात्रों को भरपूर मिलेगा।  बेहतर कैरियर बनाना बहुत जरूरी है और उसी के मुताबिक पढ़ाई होनी चाहिए। अपनी बात निर्भीकता के साथ कह देना चाहिए । पढ़ाई रुचि के अनुसार होना चाहिए जिसमें आनंद आए।स्वभाविक रूप से जो कैरियर चुनने की इच्छा हो वह चुनना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चे जो मजदूर परिवार से है। ढाई एकड़ से कम जमीन वाले परिवार इनकम टैक्स के दायरे में ना आने वाले परिवार। ऐसे बच्चो के भी अब पढ़ाई का खर्चा सरकार उठाएगी। 70 परसेंट से कम अंक वाले ऐसे बच्चो को सरकार पढ़ाएगी।

अपने अनुभव भी किए साझा

सीएम ने छात्रों से अपने बचपन की बाते साझा करते हुए कहा कि मेरे पिता मुझे डॉक्टर बनाना चाहते थे।लेकिन मेरे बस का नही था।मेने विनम्रता से मना कर दिया। माता पिता गुरु का  हमेशा सम्मान करो। दिल की बात उनसे करो। पढ़ाई हमेशा रूचि के अनुसार करो जो आपको आनंद दे। मुझे बच्चों के साथ रहना अच्छा लगता है । सीएम ने कई कहानी किस्सों के माध्यम से बच्चो को निराश ना होते हुए अपने प्रतिभा को पहचानते हुए कैरियर चुनने के टिप्स दिए।

सफलता का दिया मूलमंत्र

इसके साथ ही सीएम ने बच्चो को एक सफलता का मंत्र भी दिया। उन्होंने कहा कि एकाग्र चित्त हो कर काम करें। सफलता जरूर मिलेगी। मन में सकारात्मक भाव के साथ काम करें। नरेंद्र मोदी ने चाय बेचने वाले परिवार के घर मे जन्म लिया ओर अब देखिए प्रधानमंत्री बने है।कोई भी कमजोर नही होता है।प्रदेश के छात्रों को संबोधित करते हुए बारहवी कक्षा में 70 प्रतिशत से उतीर्ण हुए बच्चो को शुभकामनाएं दी। आज प्रदेश के करीब सवा लाख से ज्यादा बच्चे इस कार्यक्रम से जुडे है ।

छात्रों के सवाल, मुख्यमंत्री के जवाब

सवाल - भोपाल- महक खत्री : वैज्ञानिक बनना चाहती हूं, मेरे 67 प्रतिशत है और जर्नरल कैटेगरी से हूँ तो क्या मेरी फीस माफ़ होगी। 

जवाब - सीएम शिवराज - बेटा बेटियों में तुम्हारे हाथों से नया एमपी गढ़ ना चाहता हूं। तुम खूब आगे बढ़ो, तुम्हारे हर सपने को पूरा किया जाएगा। सारा आकाश तुम्हारा है, हम छू लेंगे आसमां।हालांकि सीएम ने सीधा जवाब नही दिया।

सवाल - रतलाम से छात्रा रुषि  : आर्थिक स्तिथि ठीक नही है कैसे पढ़ाई होगी। 

जवाब - सीएम शिवराज : चिंता ना करे, सारी फीस सरकार देगी। खूब पढ़ो और आगे बढ़ों।

सवाल - इतिका माली : मैं आपके जैसा मुख्यमंत्री बनना चाहती हूं। राह कठिन है, क्या आप मुझे मार्गदर्शन देंगे ?

जवाब - सीएम शिवराज  :  आपके दिल मे संवेदना है क्या? दिन ओर रात परिश्रम करने की क्षमता है क्या ।अगर है तो आप मुख्यमंत्री नहीं प्रधानमंत्री भी बन सकती हो। 

सवाल - रोशनी : सेना में जाना चाहती हूं। इसके लिए क्या करना होगा। 

जवाब - सीएम शिवराज : आपको फिजिकल फ़ीट होना होगा, सेना में भर्ती होने वाले बच्चों के लिए एक सेंटर खोला जाएगा।

सवाल -  सायना : आप बच्चो को  लैपटॉप देंगे।  क्या मुझे मिलेगा

जवाब - सीएम शिवराज :  75 प्रतिशत के ऊपर  वाले सभी छात्रों को लैपटॉप देंगे।

सवाल - प्रतिभा : एग्रीकल्चर का कोर्स करना चाहती हूं।

जवाब - सीएम शिवराज : प्रदेश में जल्द ही एग्रीकल्चर के कॉलेज खोले जाएंगे>

बता दे कि हम छू लेंगे आसमाँ के दूसरे चरण में 8 से 15 जून तक 12वीं बोर्ड की परीक्षा में उत्तीर्ण तथा 70 प्रतिशत से कम अंक प्राप्त करने वाले करीब 3 लाख 33 हजार विद्यार्थियों से काउंसिलिंग की जायेगी।  हम छू लेंगे आसमाँ योजना का क्रियान्वयन स्कूल शिक्षा, तकनीकी शिक्षा और उच्च शिक्षा विभाग संयुक्त रूप से मिलकर कर रहे हैं। पहले चरण में मुख्यमंत्री ने 21 मई को भोपाल के मॉडल स्कूल, टी.टी. नगर से आकाशवाणी और दूरदर्शन के माध्यम से विद्यार्थियों से सीधा संवाद किया था। पहले चरण में 70 प्रतिशत से अधिक अंक अर्जित करने वाले कक्षा-12 के छात्रों को शामिल किया गया था।अगर आप भी हम  छूले लेंगे आसमां'' के अंतगर्त मुख्यमंत्री से बात करना चाहते है, करीयर को लेकर कुछ पूछना चाहते है तो इस फोन नम्बर 0755-2762590 पर सवाल पूछ सकते है।

विदेश