ग्वाटेमाला के फुगो ज्वालामुखी में भीषण विस्फोट से अब तक 73 लोगों की मौत हो चुकी है और करीब 200 लोग लापता हैं। ज्वालामुखी की सक्रियता बढ़ने के कारण प्रभावित इलाकों में रह रहे सात समुदाय पहले ही सुरक्षित स्थानों पर चले गये हैं। बचाव अभियानों को रोक दिया गया है।

ज्वालामुखी के लावा और राख से बचने से लिए एस्क्युन्टिला शहर में घबराए स्थानीय लोग भागने के लिए अपनी कार की ओर दौड़ पड़े। आपदा राहत एजेंसी के प्रमुख सर्गियो कबानास ने पत्रकारों को बताया कि इस आपदा के बाद से कुल 192 लोग लापता हैं।

अधिकारियों ने बताया कि पहाड़ी गांवों में शवों की तलाश का काम वहां की भौगोलिक स्थिति तथा ज्वालामुखी से निकली गर्म मिट्टी, चट्टानों के टुकड़े और राख के कारण धीमा चल रहा है।

कबानास ने कहा कि जब तक अंतिम पीड़ित नहीं मिल जाता तब तक तलाश जारी रहेगी, हालांकि हम नहीं जानते कि कितने लोग लापता हैं। जितनी बार जरुरत होगी हम इलाके की तलाशी लेंगे।

अधिकारियों ने बताया कि आपदा से 17 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं और इनमें से 3,000 से ज्यादा लोगों को अपने घरों से दूर सुरक्षित जगहों पर जाने के लिए कहा गया है।

विदेश