रायपुर। प्रदेश की आवो हवा बदलने लगी है, गर्मी धीरे-धीरे कम हो रही है और अब मौसम ठंडा होना शुरू हो चुका है। अधिकतम पारा 40 डिग्री के नीचे जा पहुंचा है। रात का पारा भी 30 के नीचे खिसक रहा है। मौसम विभाग का पूर्वानुमान अगर सही है तो अगले 48 घंटे में मानसून छत्तीसगढ़ में दस्तक दे देगा। यह पड़ोसी राज्यों में पहुंच चुका है।

कर्नाटक में तो बाढ़ के हालात बने हुए हैं। जगदलपुर पहुंचने के पांच दिन के अंदर मानसून रायपुर पहुंच जाएगा। परिस्थितियां पूरी तरह से अनुकूल हैं और यह अपनी रफ्तार के साथ आगे बढ़ रहा है।बुधवार शाम को छह बजे अचानक तेज हवा चलनी शुरू हुई और शहर के कुछ क्षेत्रों में जमकर बारिश हुई। कुछ क्षेत्रों में जल भराव के हालात भी बन गए। मौसम विभाग शुरू से कह रहा है कि इस साल अच्छी बारिश होगी। रायपुर, जगदलपुर, सुकमा, कोंडागांव में बुधवार शाम को अच्छी बारिश हुई।

अभी कहां है मानसून 

पश्चिम महाराष्ट्र में, आंतरिक कर्नाटक क्षेत्र में, दक्षिण आंध्रप्रदेश।

कब मानते हैं मानसून 

जब लगातार दो दिनों तक बारिश हो या फिर 2.5 मिमी से अधिक वर्षा।

पूर्वानुमान

एक द्रोणिका पंजाब से उत्तरी छत्तीसगढ़ तक उत्तरी मध्यप्रदेश से होते हुए समुद्र तल से 10.5 किमी ऊंचाई पर है। एक ऊपरी हवा का चक्रवात झारखण्ड एवं उसके आसपास 1.5 किमी एवं 2 किमी ऊंचाई पर है।

8-9 जून तक पहुंच जाएगा 

अभी मानसून को आगे बढ़ने के लिए फेबरेवल कंडिशन मिल रहा है। विंड पैटर्न सुधर रहा है। अगर सब कुछ सही रहा तो आप यह मानकर चलिए कि निर्धारित समय पर मानसून पहुंच जाएगा। 8-9 जून अभी हम मान कर चल रहे हैं। - एचपी चंद्रा, वरिष्ठ वैज्ञानी, लालपुर मौसम विज्ञान केंद्र

विदेश