एयरपोर्ट के सारे डस्टबिन में बायोबैग लगाए गए हैं। पहले डस्टबिन में काली पॉलीथिन लगाई जाती थी लेकिन हम प्लास्टिक का उपयोग कम करना चाहते थे। इसलिए बायोबैग का उपयोग करेंगे। इसे रिसाइकल करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। यह खुद ही गल कर खत्म हो जाएगा।

इंदौर एयरपोर्ट देश का पहला एयरपोर्ट है, जहां बायोबैग लगाए गए हैं। इससे पहले हम 60 रुपए में थाली भी शुरू कर चुके हैं। यह भी देश में पहली बार था। उन्होंने बताया कि मंगलवार से एयरपोर्ट के किसी भी काउंटर पर प्लास्टिक प्लेट्स में खाना नहीं मिलेगा। इसके लिए ईको फें्रडली प्लेट्स का इस्तेमाल किया जाएगा। पर्यावरण दिवस पर कई कार्यक्रम हुए। पद्मश्री जनक पलटा की मौजूदगी में पर्यावरण संरक्षण पर नुक्कड़ नाटक भी किया गया है।

 

15 जुलाई से शुरू होगा सोलर प्लांट

एयरपोर्ट पर सोलर प्लेट लगाने का काम लगभग पूरा हो चुका है। 15 जुलाई से प्लांट काम करने लगेगा। पिछले साल नवंबर में एयरपोर्ट पर 900 किलो वाट के सोलर प्लांट का शिलान्यास ऊर्जा मंत्री पारस जैन ने किया था। अभी प्रतिमाह बिजली बिल करीब 34 लाख रुपए आता है। एक मेगावाट का प्लांट लगाने पर हर माह 5 से 6 लाख रुपए तक की बचत होगी।

विदेश