रायपुर। छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के आदिवासी बहुल गांव जगतपुर के 21 किसानों ने सामूहिक रूप से वर्मीकम्पोस्ट का निर्माण कर मात्र तीन महीने में तीन लाख रुपए की कमाई की है। कृषि विज्ञान केंद्र कोरिया के मार्गदर्शन में मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत ग्राम जगतपुर में 100 केंचुआ खाद टांकों से प्रथम चक्र में पांच टन केंचुआ खाद का उत्पादन किया गया। इन टांकों से वर्षभर में चार चक्रों में लगभग बीस टन केंचुआ खाद का निर्माण होगा, जिससे समूह को सोलह लाख रुपये की सालाना आमदनी होगी।

90 घंटे का दिया गया प्रशिक्षण 

जिला प्रशासन के सहयोग से कृषि विज्ञान केन्द्र कोरिया, कृषि विभाग, उद्यानिकी विभाग आदि शासकीय संस्थाओं द्वारा आठ रुपये प्रति किलो की दर पर इस वर्मीकम्पोस्ट की खरीदी की जा रही है। यह कृषक समूह अब तक तीन लाख रुपये की केंचुआ खाद बेच चुका है।

इंदिरा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केन्द्र कोरिया द्वारा जिले के दूरस्थ अंचल स्थित आदिवासी बहुल गांव जगतपुर में 21 कृषकों का समूह गठित कर उन्हें मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के अंतर्गत वर्मीकम्पोस्ट निर्माण के लिए 90 घंटे का प्रशिक्षण दिया गया।

15 हजार रुपए से अधिक की आमदनी 

माहात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत सौ टांके बनाकर वर्मीकम्पोस्ट एवं वर्मीवॉश का निर्माण शुरू किया गया। इन टांकों में प्रति चक्र प्रति टांके में 500 किलोग्राम केंचुआ खाद के हिसाब से एक चक्र में सौ टांकों से पांच टन वर्मीकम्पोस्ट तैयार होगी। इस प्रकार कुल चार चक्रों में बीस टन केंचुआ खाद का निर्माण होगा।

आठ रुपये प्रति किलो की दर से इसकी कीमत 16 लाख रुपए होगी। इससे समूह के सदस्य प्रत्येक किसान को 75 हजार रुपये से अधिक की आमदनी होगी। इस वर्मी कम्पोस्ट का विक्रय कोरिया एग्रो प्रोड्यूसर कम्पनी के द्वारा किया जा रहा है।

विदेश