नई दिल्ली। ऑनलाइन धोखाधड़ी के रोजाना कई मामले सामने आते हैं। इन मामलों इंटरनेट पर ठगी करने वाले सीधे साधे लोगों को अपना निशाना बनाते हैं। इसी तरह की धोखाधड़ी को लेकर RSA क्वार्टरली की 1 जनवरी से लेकर 31 मार्च 2018 के बीच की फ्रॉड रिपोर्ट में बड़ा खुलासा हुआ है। इसके अनुसार भारत उन तीन टॉप देशों में से एक है जिस पर सबसे ज्यादा मालवेयर अटैक होते हैं।

इन सभी साइबर अटैक्स में से 48 प्रतिशत मामले फिशिंग के थे। फ्रॉड अटैक और उपभोक्ताओं के साथ होने वाले फ्रॉड की रिपोर्ट के अनुसार कनाडा, यूएस, भारत और ब्राजील ऐसे देश हैं जो इस तरह के अटैक्स के टॉप टारगेट रहे।

कौन-से अन्य देश हैं इस लिस्ट में?

फिशिंग टारगेट देशों में ब्राजील चौथे स्थान पर है, नीदरलैंड (5th), कोलंबिया (6th), स्पेन (7th), मेक्सिको (8th), जर्मनी (9th) और साउथ अफ्रीका (10th) स्थान पर है। रिपोर्ट के अनुसार, उपभोक्ताओं से होने वाले फ्रॉड मोबाइल के जरिए अधिक होते हैं। 65 प्रतिशत फ्रॉड ट्रांजैक्शंस ने मोबाइल एप या ब्राउजर का इस्तेमाल किया है। रिपोर्ट में आगे बताया गया की इस तरह के अटैक्स की लिस्ट में टॉप देशों में यूएस है। इसके बाद रूस दूसरे स्थान पर और उसके बाद भारत तीसरे स्थान है।

कैसे बचें फिशिंग से?

अनजाने लिंक पर ना करें क्लिक: फिशिंग से बचने का सबसे सरल तरीका है की किसी भी तरह के अनजाने लिंक पर क्लिक ना करें। आप अपने मेल पर मेल आने से या फोन पर मैसेज आने से रोक नहीं सकते। लेकिन आप खुद को इस तरह के लिंक्स पर लसिक ना कर के बचा जरूर सकते हैं।

एंटी वायरस है जरुरी

किसी भी कंप्यूटर या स्मार्टफोन में एंटी वायरस होना बेहद जरुरी है। एंटी वायरस किसी भी खतरनाक वायरस से बचने में आपकी मदद करता है। एंटी वायरस आसानी से पहचान लेता है की आपकी डिवाइस में कौन सा वायरस है।

डाटा का बैकअप रखें

किसी भी साइबर अटैक से सबसे बड़ा खतरा डाटा या आपकी निजी जानकारी पर होता है। यूजर का पर्सनल डाटा, फोटोज, डाक्यूमेंट्स आदि सभी पर अटैक होता है। इसलिए सबसे पहले आप अपने डाटा का पूरा बैकअप रखें। यह भी ख्याल रखें की यह बैकअप आपने इंटरनेट का इस्तेमाल करके न किया हो। कोशिश करें कि बैकअप किसी हार्ड ड्राइव में रख लें। इससे कितना ही खतरनाक वायरस हो, आपके डाटा का कुछ नहीं बिगाड़ पाएगा।

विदेश