दुबई। एक मुस्लिम दूल्हे ने निकाह के 15 मिनट बाद ही अपनी दुल्हन को तलाक दे दिया क्योंकि वह दुल्हन के पिता और उसकी मेहर की मांगों से अपमानित महसूस कर रहा था।

दुबई में हुए इस निकाह में अब ये शख्स अपने ससुर को 20 हजार पाउंड देने को तैयार हो गया लेकिन वे कैश लेने के लिए बैचेन हो गए। वह जल्द से जल्द कैश चाहते थे कि उनके हाथ में आ जाए।

हालांकि दुल्हन के पिता ने मांग रखी और सारी रस्में व मैरिज कॉन्ट्रेक्ट साइन होने के बाद भी दूल्हे ने मांग पूरी नहीं की। दूल्हे ने कहा कि उस कार तक जाने में केवल पांच मिनट लगेंगे और कैश लेकर आता है। लेकिन दुल्हन का पिता इतना अधीर था कि उसने बोला कि वह या तो अभी कैश दे या फिर अपने किसी दोस्त या रिश्तेदार को पैसे लाने के लिए भेजे। इससे दूल्हे ने दिल पर ले लिया। उसे लगा कि ये तो सरासर बेइज्जती है।

इस मामले को हैंडल कर रहे वकील के मुताबिक दुल्हन के पिता की इस अधीरता और मांग से दूल्हे को अपमानित व अमानवीय महसूस हुआ और तुरंत ही उसने निकाह तोड़ दिया।

वकील के मुताबिक दूल्हे ने दुल्हन के पिता से साफ कह दिया कि वह उनकी बेटी को पत्नी के रूप में नहीं चाहता है और मैरिज कॉन्ट्रेक्ट साइन करने के 15 मिनट बाद ही तलाक दे दिया।

बता दें कि मेहर वो रकम है जो किसी लड़की का होने वाला शौहर लड़की तो तोहफे के तौर पर देता है लेकिन यह रकम लड़की तय किया करती है। इस मेहर को न तो वापस लिया जा सकता है और ना ही माफ करने के लिए लड़की पर दबाव डाला जा सकता है। इस रकम को निकाह के पहले अदा किया जाना चाहिए या फिर लड़की जैसी शर्त रखे उसके अनुसार अदा किया जाना चाहिए।

विदेश