उत्तर कोरिया ने अमरीका के साथ होने वाली बहुप्रतीक्षित बैठक को रद्द करने की धमकी दी है. उसका कहना है कि वह अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के साथ होने वाली बैठक पर दोबारा विचार करेगा.

उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन और अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के बीच आगामी 12 जून को सिंगापुर में बैठक होने वाली थी.

यह बैठक उत्तर कोरिया के अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम को समाप्त करने का फ़ैसला लेने के बाद तय हुई थी.

लेकिन बुधवार को उत्तर कोरिया ने सभी को चौंकाते हुए दक्षिण कोरिया के साथ होने वाली बातचीत रद्द कर दी. वो अमरीका और दक्षिण कोरिया के बीच चल रहे संयुक्त सैन्य अभ्यास से नाराज़ है.

उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया में बुधवार को उप विदेश मंत्री किम के-ग्वान के हवाले से कहा गया, "अगर अमरीका हमें दरकिनार कर सिर्फ़ एकतरफा यह मांग करता है कि हम अपने परमाणु कार्यक्रम को बंद कर दें, तो हम इस तरह की बातचीत के पक्ष में नहीं हैं. साथ ही अमरीका और डीपीआरके के बीच होने वाली आगामी बैठक पर भी हम विचार करेंगे."

'डीपीआरके' का अर्थ है डेमोक्रेटिक पीपल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया, यह उत्तर कोरिया का आधिकारिक नाम है.

दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति मून जे-इन और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग-उन

फ़िलहाल दक्षिण कोरिया में अमरीका और दक्षिण कोरिया की सेनाएं संयुक्त अभ्यास कर रही हैं. उत्तर कोरिया की इस घोषणा के कई और परिणाम निकलने की संभावना है.

दरअसल दक्षिण कोरिया और अमरीकी सेनाओं के बीच चल रहा सैन्य अभ्यास विंटर ओलंपिक के समय होना था, लेकिन उस समय उत्तर और दक्षिण कोरिया के अप्रत्याशित रूप से मिलने से यह सैन्य अभ्यास टाल दिया गया था.

उत्तर कोरिया ने इससे पहले इस तरह के सैन्य अभ्यास पर अपनी रज़ामंदी दी थी.

विदेश