वैज्ञानिकों ने यह पाया है कि हाइपोनैट्रेमिया यानी खून में सोडियम स्तर कम होने का संबंध बढ़ती उम्र में व्यक्ति के पहचानने की क्षमता में गिरावट से है। अमेरिकन सोसाइटी ऑफ नेफ्रोलॉजी की पत्रिका 'क्लीनिकल में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार होइपोनैट्रेमिया तब होता है जब खून में सोडियम का स्तर 135 मिलीमोल्स प्रति लिटर (एमएमओएल/एल) से नीचे गिर जाता है।

मध्यम स्तर के हाइपोनैट्रेमिया को कभी कम खतरनाक समझा जाता था, लेकिन हाल के अध्ययनों में यह सुझाव दिया गया कि यह व्यक्ति की समझने-पहचानने की क्षमता, चलने-फिरने, गिरने, हृदय से संबंधित क्रियाओं के गंभीर खतरे से संबंधित हो सकता है और यहां तक कि इससे असमय मृत्यु भी हो सकती है। अमेरिका में यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोराडो एनशट्ज मेडिकल कैम्पस से क्रिस्टीन नोवाक ने कहा, ''खून में सोडियम का स्तर हल्का कम होने को नजरअंदाज किया जाता रहा है।

नोवाक ने कहा कि खून में सोडियम के कम स्तर एवं बढ़ती उम्र के साथ पहचानने की क्षमता में हल्के बदलाव सामान्य बात है। इस विषय पर भविष्य में अनुसंधान बेहद महत्वपूर्ण है। अनुसंधानकर्ताओं ने इसके लिये 65 वर्ष की उम्र के 5,435 व्यक्तियों से प्राप्त सूचनाओं का अध्ययन किया।

विदेश