मध्यप्रदेश में बच्चों के लिए शुरू की गयी अरुणोदय गुल्लक योजना रंग ला रही है. 2007 में जिला सहकारी बैंक ने मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा जिले में इस अनूठी योजना की शुरुआत की थी और देखते ही देखते 10-11 साल में जिले की 26 सहकारी बैंक शाखाओं में बच्चों के गुल्लक में एक करोड़ रुपये से ज्यादा की राशि जमा हो गई. अब यह राशि बच्चों की पढ़ाई के लिए ऋण देने और दूसरी जरूरतों को पूरा करने में काम आ रही हैं.

ऐसे करें शुरूआत…

अरुणोदय गुल्लक योजना के खाते में एक रुपये से लेकर कितनी भी राशि जमा कराई जा सकती है. इसका खाता खुलवाना भी आसान है. किसी भी बच्चे का, चाहे वह तुरंत ही क्यों न जन्मा हो, जन्म प्रमाण पत्र और पिता के केवाईसी दस्तावेजों के साथ बचत खाता खोलकर गुल्लक दी जाती है. गुल्लक एक तिजोरी नुमा छोटी लाकर पेटी की तरह होता है, जिसकी दो चाभी होती है.एक खाताधारक के पास और दूसरी बैंक के पास रहती है.

(स्त्रोत: mytimestoday.com)

विदेश