भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर एक बार फिर अच्छे संकेत सामने आए हैं। भारत की अर्थव्यवस्था के संदर्भ में अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं ने जो आकलन किया है, उसका निचोड़ यह है कि युवा जनसंख्या और सरकार की ओर से किए जा रहे आर्थिक सुधारों के कारण भारत की अर्थव्यवस्था बहुत तेजी से आगे बढ़ेगी। यह बात भारत का प्रतिद्वंद्वी चीन भी स्वीकार करने लगा है। पहले अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने कहा कि भारत आने वाले वर्षों में चीन और दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्थाओं से अधिक तेजी से विकास करेगा। उसके बाद चीन भी मानने लगा है कि भारत में विकास की बहुत संभावना है और युवा जनसंख्या, आर्थिक सुधारों के जरिए यह तेजी से आगे बढ़ रहा है। चीन के सरकारी समाचार-पत्र ‘ग्लोबल टाइम्स’ की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन की आर्थिक सफलता को भारत दोहराएगा। आर्थिक सर्वे का हवाला देते हुए कहा गया है कि भारत 2018-19 में 7 से 7.5 फीसदी की रफ्तार से तरक्की करेगा, जो कि इसे दुनिया की बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में सबसे तेजी से बढऩे वाला बनाएगा। रिपोर्ट में इस बात को बहुत प्राथमिकता से उल्लेखित किया गया कि भारतीय अर्थव्यवस्था की सबसे बड़ी विशेषता उसकी युवा जनसंख्या है। चीन का यह आकलन इसलिए भी महत्वूर्ण है, क्योंकि उसके आर्थिक विकास के पीछे भी युवा आबादी की ताकत है। भारत की युवा जनसंख्या को आज दुनिया की सभी महत्वपूर्ण संस्थाएं एक सुनहरे भविष्य की तरह देख रही हैं। युवा जनसंख्या के कारण ही भारत आने वाले समय में लगभग सभी क्षेत्रों में विश्व का नेतृत्व करेगा। विश्व बैंक अपने आंकड़ों के आधार पर कहता है कि भारत के पास दुनिया की सबसे बड़ी युवा आबादी है। देश के भविष्य के लिए यह शक्तिशाली आवेग है। युवा जनसंख्या को देखते हुए ही दुनियाभर की कंपनियां भारत में निवेश कर रही हैं। अब तक कमजोर आधारभूत संरचना को लेकर भारत की आलोचना होती रही है। किंतु, अब सरकार के सुधारवादी प्रयासों के कारण आधारभूत संरचना को लेकर होने वाली आलोचना में भी कमी आई है। आधारभूत संरचना को मजबूत करने से अर्थव्यवस्था को और ताकत मिलेगी। केंद्र सरकार इस दिशा में सार्थक प्रयास कर रही है। इसलिए इस बात की संभावना प्रबल हैं कि युवा ताकत का लाभ यह देश ले पाएगा। इस समय मोदी सरकार को युवाओं की बेरोजगारी दूर करने, उन्हें गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराने, उनके कौशल उन्नयन और प्रशिक्षण की योजनाओं पर विशेषतौर पर काम करना होगा। बहरहाल, अब तक के कार्यकाल में मोदी सरकार ने भी भरोसा दिलाया है कि विकास को लेकर उनकी प्रतिबद्धता स्पष्ट है। 

विदेश