भोपाल।

निशातपुरा थाना क्षेत्र स्थित रतन कॉलोनी में शनिवार रात साले ने अपनी पत्नी, बेटे व साली के साथ मिलकर जीजा की नृशंस हत्या कर दी। चारों आरोपियों ने लाठी-डंडे व कुल्हाड़ी से हमला किया था। हमीदिया अस्पताल पहुंचने से पहले ही जीजा की मौत हो गई थी। घटना का कारण मुख्य आरोपी का बीते 15 दिन से लापता होना बताया जा रहा है। आरोपी को संदेह था कि उसकी बेटी के लापता होने में जीजा का हाथ है। पुलिस ने हत्या का प्रकरण दर्ज कर आरोपियों की खोजबीन शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक मूलरूप से गढ़ाकोटा सागर निवासी रतिराम बाल्मीकि (45) यहांरतन कॉलोनी निशातपुरा में झुग्गी बनाकर अपनी पत्नी कृष्णा बाई (40) और अन्य परिजनों के साथ रहता था। वह नगर निगम में डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन का काम करता था। पड़ोस में ही रतिराम का साला प्रकाश भी झुग्गी बनाकर अपने परिवार के साथ रहता है। प्रकाश भी रतिराम के साथ कचरा कलेक्शन का काम करता है। पुलिस ने बताया कि रतिराम और कृष्णा वाल्मीकि शनिवार रात घर पर ही थे। इसी दौरान साला प्रकाश उनके घर आ पहुंचा। अपनी पत्नी बुंदिया बाई, बेटा आकाश और साली कोशी बाई के साथ मिलकर प्रकाश ने घर के बाहर खड़े होकर रतिराम के साथ गाली-गलौज शुरू कर दी। रतिराम शोर सुनकर जब बाहर निकला तो सभी ने मिलकर उस पर लाठी-डंडे और कुल्हाड़ी से हमला कर दिया। हमले में रतिराम के सिर व गले पर गंभीर चोटें आई थीं। वह लहूलुहान होकर जमीन पर गिर पड़ा। रतिराम को बेहोश देखकर प्रकाश समेत सभी आरोपी वहां से फरार हो गए। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने रतिराम को अस्पताल में भर्ती करवाया लेकिन खून अधिक बहने से उसकी मौत हो चुकी थी। 

बेटी को गायब कराने का था संदेह

पुलिस ने बताया कि प्रकाश की 22 वर्षीय बेटी बीते 15 दिन से लापता है। विवेचना के दौरान पता चला कि प्रकाश को संदेह था कि उसकी बेटी के गायब होने में रतिराम का हाथ है। रतिराम ने ही अपने किसी परिचित की मदद से बहला-फुसलाकर उसकी बेटी को अगवा कराया है। इसी बात को लेेकर कुछ दिन पहले दोनों के बीच विवाद भी हुआ था। प्रकाश अक्सर शराब के नशे में रतिराम के साथ गाली-गलौज करता था। शनिवार को भी प्रकाश व रतिराम में शराब पीने के बाद इसी बात को लेकर विवाद हुआ था। पुलिस ने प्रकाश समेत बुंदिया बाई, आकाश व कोशा बाई के खिलाफ हत्या का प्रकरण दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी है।

विदेश