मुंबई। एजेंसी
बीते सप्ताह बढ़त में रहने वाले शेयर बाजार की दिशा अगले सप्ताह कई कारकों से प्रभावित होगी। आगामी सप्ताह कई बड़ी कंपनियों के तिमाही परिणाम जारी होने हैं और अप्रैल की डेरिवेटिव निविदा भी समाप्त हो रही है। निवेशकों की नजर इसके अलावा राजनीतिक उथल-पुथल, रुपए की चाल, वैश्विक रुख और कच्चे तेल पर भी रहेगी। समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सैंसेक्स 0.65 प्रतिशत यानी 222.93 अंक की बढ़त के साथ 34,415.58 अंक पर और एनएसई का निफ्टी 0.80 प्रतिशत यानी 83.45 अंक की तेजी के साथ 10,564.05 अंक पर बंद हुआ।

दिग्गज कंपनियों के अलावा मंझोली और छोटी कंपनियों ने निवेशकों का आकर्षित किया
दिग्गज कंपनियों के अलावा मंझोली और छोटी कंपनियों ने भी सप्ताह के दौरान निवेशकों का आकर्षित किया। बीएसई का मिडकैप 121.18 अंक यानी 0.73 प्रतिशत की तेजी के साथ 16,798.94 अंक पर और स्मॉलकैप 1.09 फीसदी यानी 196.04 अंक की छलांग लगाकर 18,178.03 अंक पर बंद हुआ। भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता यशवंत सिन्हा ने शनिवार को राजनीति से संन्यास लेने की घोषणा के साथ लोकतंत्र के खतरे में होने का सनसनीखेज बयान भी दिया।
 इसके साथ ही मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा को लेकर उपजा विवाद भी शेयर बाजार में हलचल पैदा कर सकता है। 

भारतीय मुद्रा पूरे सप्ताह के दौरान गिरावट में रही है और कच्चे तेल में उबाल जारी है। इनका भी असर निवेशकों की धारणा पर रहेगा। सप्ताह के दौरान सोमवार को रिलायंस इंफ्रास्ट्रक्चर, भारती इंफ्राटेल और एलआईसी हाउसिंग फाइनेंस, मंगलवार को भारती एयरटेल, आईडीएफसी बैंक,बुधवार को विप्रो और अल्ट्राटेक सीमेंट,गुरुवार को यस बैंक, एक्सिस बैंक तथा शुक्रवार को मारुति सुजुकी, बंधन बैंक और रिलायंस इंडस्ट्रिज के परिणाम जारी होने हैं। वैश्विक स्तर पर यूरोपीय सेंट्रल बैंक और बैंक ऑफ जापान नीतिगत घोषणाएं करने वाले हैं, जो निवेशकों के रुझान को प्रभावित करेंगे। 

6 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 91,153 करोड़ बढ़ा
सेंसेक्स की शीर्ष दस बहुमूल्य कंपनियों में से 6 के बाजार पूंजीकरण में पिछले हफ्ते 91,152.73 करोड़ रुपए की वृद्धि हुई है। सबसे ज्यादा लाभ टीसीएस को हुआ है उसका बाजार पूंजीकरण करीब 49,000 करोड़ रुपए बढ़ा। टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, आईटीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, इंफोसिस और कोटक महिंद्रा बैंक का पूंजीकरण बढ़ा है जबकि आरआईएल, एचडीएफसी, मारुति और ओएनजीसी की बाजार हैसियत घटी है। 
टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 48,890.9 करोड़ रुपए बढ़कर 6,52,082.92 करोड़ रुपए हो गया है।
 शुक्रवार को टी.सी.एस. के शेयर की कीमत में करीब 7 प्रतिशत होने से उसका बाजार पूंजीकरण 100 अरब डॉलर के स्तर के करीब पहुंच गया। आई.टी.सी. का बाजार पूंजीकरण 18,489.51 करोड़ बढ़कर 3,36,777.52 करोड़ रुपए हो गया जबकि हिंदुस्तान यूनिलीवर का पूंजीकरण 12,078.07 करोड़ बढ़कर 3,17,211.69 करोड़ रुपए पर पहुंच गया।
एच.डी.एफ.सी. बैंक की बाजार हैसियत 8,537.85 करोड़ बढ़कर 5,08,884.23 करोड़ रुपए और इंफोसिस की हैसियत 2,021.81 करोड़ रुपए की वृद्धि के साथ 2,57,344.77 करोड़ रुपए हो गई। कोटक महिंद्रा बैंक का पूंजीकरण 1,134.59 करोड़ रुपए की बढ़त के साथ 2,19,997.59 करोड़ रुपए हो गई। सोमवार को कोटक महिंद्रा बैंक ने एस.बी.आई. को शीर्ष दस भारतीय कंपनियों की सूची से बाहर करके अपना स्थान बनाया। इस दौरान, रिलायंस इंडस्ट्रीज का बाजार पूंजीकरण 6,798.81 करोड़ गिरकर 5,87,929.90 करोड़ रुपए रह गया।

मारुति सुजुकी का बाजार पूंजीकरण 3,058.56 करोड़ और एच.डी.एफ.सी. का पूंजीकरण 1,499.91 करोड़ गिरकर क्रमश: 2,72,995.79 करोड़ रुपए और 3,06,961.59 करोड़ रुपए रहा। ओ.एन.जी.सी. की बाजार हैसियत 192.5 करोड़ रुपए की गिरावट के साथ 2,34,014.04 करोड़ रुपए रही। शीर्ष दस कंपनियों की सूची में टी.सी.एस. पहले स्थान पर है। इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज, एच.डी.एफ.सी. बैंक, आईटीसी, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एच.डी.एफ.सी., मारुति इंफोसिस, ओ.एन.जी.सी. और कोटक महिंद्रा बैंक हैं।

विदेश