रायपुर। रिलायंस जियो छत्तीसगढ़ के सुदूर अंचलों में ढाई हजार मोबाइल टॉवर खड़ा करेगा। जियो को प्रदेश में रमन मोबाइल का ठेका मिला है। कंपनी राज्य सरकार की जरूरत के मुताबिक हैंडसेट मंगाने की तैयारी कर रही है।

प्रदेश के बीपीएल श्रेणी की महिलाओं और कालेज के विद्यार्थियों को दो साल में 50 लाख स्मार्ट फोन बांटा जाना है। इतने फोन के लिए मोबाइल कनेक्टिविटी की भी जरूरत होगी। वर्तमान में ग्रामीण इलाकों में नेटवर्क की हालत बेहद खराब है।

ऐसे में अगर टॉवर नहीं लगाए गए तो फोन बांटने का कोई मतलब नहीं रह जाएगा। चिप्स ने जियो कंपनी से मई 2019 तक 2500 मोबाइल टॉवर खड़ा करने का करार किया है। इन टॉवरों से प्रदेश के 13900 गांवों में नेटवर्क उपलब्ध होगा।

जियो को इसके लिए 750 करोड़ व्यय करना होगा। टॉवरों के रखरखाव का काम भी कंपनी ही देखेगी। रखरखाव पर सालाना दो सौ करोड़ व्यय होने अनुमान है। मोबाइल बंटने के साथ ही टॉवर खड़ा करने काम भी शुरू हो जाएगा।

चिप्स के अफसरों का कहना है कि जिन इलाकों में मोबाइल बांटने की योजना बनेगी वहां पहले टॉवर खड़ा किया जाएगा फिर समारोह पूर्वक मोबाइल वितरण का काम किया जाएगा।

मोबाइल में नहीं होगा मुख्यमंत्री का फोटो

रमन मोबाइल में मुख्यमंत्री की तस्वीर नहीं होगी। इसमें प्रदेश में सूचना क्रांति से संबंधित जानकारियां रखी जाएंगी। फेसबुक, व्हाट्सअप जैसे एप रहेंगे। भीम एप और सरकारी योजनाओं के अन्य एप भी डालने की योजना है। फीचर तय करने की जिम्मेदारी प्रदेश के जनसंपर्क विभाग को दी गई है।

विकास यात्रा के अंतिम चरण में शुरू होगा वितरण 

 

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह एक मई से विकास यात्रा पर निकल रहे हैं। पहले योजना यही थी कि विकास यात्रा के दौरान मोबाइल भी बांटे जाएंगे। हालांकि अब एक मई को मोबाइल आने की संभावना नहीं है। अभी जियो से करार हुआ है, इसमें कुछ प्रक्रिया बाकी है।

इसके बाद कंपनी माइक्रोमैक्स कंपनी से यहां की जरूरत के हैंडसेट मंगाएगी। तब जाकर वितरण शुरू हो पाएगा। अफसरों ने पूरा जोर लगा दिया है। माना जा रहा है कि विकास यात्रा के अंतिम चरण में मोबाइल वितरण की शुरूआत कर दी जाएगी।

- जैसे-जैसे मोबाइल बंटते जाएंगे टॉवर भी खड़े होते जाएंगे। मोबाइल वितरण अगले महीने के अंत तक शुरू हो जाएगा। - संजीव शर्मा पीआरओ, चिप्स

विदेश