मक्का मस्जिद मामले में निर्णय देने वाले जज रवीन्द्र रेड्डी ने इस्तीफा दे दिया है। निर्णय देने के छह घंटे के बाद जज ने अपना इस्तीफा दे दिया। जज ने निर्णय देते हुए कहा कि एनआईए आरोपियों पर आरोप तय नहीं कर पाई इसलिए सभी पांच आरोपियों को बरी कर दिया गया है। इस्तीफा देने के बाद जज चर्चा में आ गए है। जज रेड्डी ने कहा कि मैंने इस्तीफा अपने निजी कारणों से दिया है।

कांग्रेस निर्णय को लेकर अपने कई बयानों से चर्चा में है। वही भाजपा इस निर्णय को सर्वसम्मति से स्वीकार कर रही है। जज ने यह केवल दो मिनिट दे दिया। अभियोजन पक्ष अब अपीलीय कोर्ट में अपील करेंगे  या नहीं यह देखना होगा। 

मक्का मस्जिद मामला करीब 17 साल पुराना है। हैदराबाद की मक्का मस्जिद में बम विस्फोट की घटना के विषय में यह निर्णय दिया गया है। कोर्ट ने अपने फैैसले में सभी पांच आरोपियों देवेन्द्र गुप्ता, लोकेश शर्मा, स्वामी असीमानंद, भारत मोहनलाल और राजेन्द्र चौधरी को कोर्ट ने बरी कर दिया है। यह फैसला हैदराबाद की विशेष एएनआई कोर्ट ने सुनाया है।

विदेश