सुकमा। बीते रविवार की रात बड़ेसेट्टी पंचायत के सरपंच कलमू हुंगा की हत्या के मामले में पुलिस ने मंगलवार को बड़ेसेट्टी के निलंबित पंचायत सचिव नंदलाल ईडो को फुलबगड़ी के कोटमपारा से उसके घर से गिरफ्तार किया है। वारदात में इस्तेमाल सचिव की वाहन भी पुलिस ने जब्त किया है।

एएसपी ने इस वारदात में चार नक्सलियों के शामिल होने की बात भी कही है। कहा जा रहा है कि संभवत: क्षेत्र में यह पहली घटना है, जब नक्सलियों ने सुपारी लेकर हत्या की है। मंगलवार को एएसपी संजय महादेवा व एसडीओपी रामगोपाल करियारे ने पुराने एसपी कार्यालय में पत्रकारवार्ता में सरपंच की हत्या की गुत्थी सुलझाने का दावा किया।

एएसपी ने बताया कि पूरा मामला सुपारी किलिंग से जुड़ा हुआ है। पांच लाख रुपये लेकर नक्सलियों ने वारदात को अंजाम दिया है। नंदलाल सरपंच कलमू हुंगा को गुमराह कर ग्राम पंचायत के विभिन्ना मदों से मनमानी तरीके से पैसे का आहरण कर उसे माओवादियों तक पहुंचाने का काम करता था।

बीते साल अक्टूबर में उसने पांच लाख रुपये का आहरण किया। इसमें से दो लाख रुपये उसने माओवादियों को दिए। इससे पहले भी सचिव ने कई बार नक्सलियों को पैसे पहुंचाने की बात पुलिस पूछताछ में कबूल की है।

नक्सलियों को पैसे पहुंचाने का सरपंच कलमू हुंगा द्वारा लगातार विरोध किया जा रहा था। उसने नंदलाल को निलंबित भी कर दिया था। इसी बात को लेकर सचिव व सरंपच के बीच काफी दिनों से अनबन चल रही थी।

एएसपी के मुताबिक रविवार शाम सात बजे नंदलाल ईडो बड़ेसेट्टी के सिंघनपारा से धारदार हथियारों से लैस चार नक्सलियों को स्वयं की स्कॉर्पियो वाहन से लेकर सुकमा पहुंचा। नक्सलियों को सोढ़ीपारा के पास छोड़कर वह तुंगलबांध पहुंचकर नक्सलियों का इंतजार करने लगा। इधर नक्सलियों साढ़ू के घर भोजन करने गए कलमू की गला रेतकर हत्या कर दी।

विदेश