हेलसिंकी। योरपीय देश फिनलैंड के पहले किन्नर पुरुष ने एक बच्ची को जन्म दिया है। बच्ची को जन्म देने वाला किन्नर पुरुष पहले एक महिला था। वह हार्मोन सर्जरी के लिए देश की पहला किन्नर पुरुष बन गई है। किन्नर के परिवार से जुड़े सूत्रों ने स्थानीय मीडिया को बताया कि नवजात का वजन करीब 4 किलो और लंबाई (जन्म के समय) 53 सेंटीमीटर है।

बच्ची को जन्म देने वाले किन्नर के नाम का निजता के कारण खुलासा नहीं किया गया है। करीब तीस साल का यह किन्नर वर्ष 2015 से पहले एक महिला था। लंबे समय की टेस्टोस्टेरोन थैरेपी के जरिए उसने कानूनी रूप से अपना लिंग परिवर्तन करा लिया। लेकिन पूरी तरह पुरुष बनने के लिए उसने लिंग परिवर्तन की सर्जरी नहीं कराई क्योंकि वह अपने पति से गर्भवती होना चाहती थी।

हार्मोन थैरेपी पर फिनलैंड के कानून के मुताबिक अगर कोई, महिला से पुरुष बनना चाहता है तो उसे साबित करना होता है कि वह बच्चा पैदा करने में सक्षम नहीं है। जब लंबे वक्त तक टेस्टोस्टेरोन थैरेपी जारी रहती है तो व्यवहार में फिनलैंड की मेडिकल यूनिट्स में उसे किन्नर समझ बच्चा पैदा करने में अक्षम मान लिया जाता है।

लेकिन अगर हार्मोन थैरेपी कुछ समय के लिए रोक ली जाती है तो कभी-कभी प्रजनन क्षमता लौट आती है। यह मामला असाधारण है क्योंकि हेलसिंकी इलाके में रह रहे दंपती ने हार्मोन थैरेपी स्थगित रखने का फैसला किया और बच्ची पैदा करने वाले पुरुष का मासिक धर्म लौट आया। बच्ची के पैदा होने पर पुरुष को पितृ अवकाश मंजूर किया गया है।

विदेश