पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने जब कश्मीर को लेकर ट्वीट किया होगा, तो ये नहीं सोचा होगा कि पूरा भारतीय क्रिकेट जगत उनके खिलाफ आ खड़ा होगा। गौतम गंभीर ने अफरीदी को करारा जवाब दिया था। इसके बाद से सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, सुरेश रैना, मोहम्मद कैफ और कपिल देव जैसे दिग्गज क्रिकेटरों ने भी अफरीदी को आड़े हाथों लिया।

अफरीदी और विराट के बीच संबंध काफी अच्छे रहे हैं और इसका प्रमाण कई बार मिल चुका है, लेकिन अफरीदी की कश्मीर पर की गई टिप्पणी विराट को भी बिल्कुल पसंद नहीं आई। भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट ने कहा कि देश हित उनके लिए सबसे ऊपर है।

विराट ने कहा, 'एक भारतीय के रूप में आप वही कहना चाहते हैं, जो आपके देश के लिए सबसे अच्छा है और मेरे हित हमेशा हमारे देश के फायदे से जुड़े हैं। अगर कोई चीज इसका विरोध करती है तो मैं यकीनन कभी इसका समर्थन नहीं करूंगा।'

भारत रत्‍न सचिन तेंदुलकर ने अफरीदी के ट्वीट पर कहा, 'हमारे पास देश चलाने के लिए योग्‍य लोग मौजूद हैं। किसी बाहरी को हमें ये बताने की जरूरत नहीं कि क्‍या करना है।' वहीं मोहम्मद कैफ ने तो अफरीदी की बोलती ही बंद कर दी।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'पैसा बोलता है। कल्‍पना भी नहीं कर सकता कि अगर आईपीएल में पाकिस्‍तानी खिलाड़ी खेल रहे होते तो अफरीदी तब भी ऐसा कमेंट करते। उस वजह की निंदा होनी चाहिए जिसके चलते पाकिस्‍तानी खिलाड़‍ियों को आईपीएल खेलने की अनुमति नहीं है। पाकिस्‍तान की ओर से घुसपैठ और अलगाववादियों को समर्थन। हम शांति और प्रेम की इच्‍छा रखते हैं मगर शांति दोनों तरफ से आती है।'

कपिल ने पूछा अफरीदी कौन?

मूल रूप से कश्मीर के सुरेश रैना ने लिखा, 'कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा रहेगा। कश्मीर वो पवित्र भूमि है जहां मेरे पूर्वजों का जन्म हुआ। मुझे उम्मीद है कि शाहिद अफरीदी पाकिस्तानी सेना से हमारे कश्मीर में आतंकवाद एवं परोक्ष युद्ध रोकने को कहेंगे। हम शांति चाहते हैं, रक्तपात और हिंसा नहीं।'

क्रिकेटरों के अलावा जावेद अख्तर ने भी अफरीदी को जवाब दिया, उन्होंने कहा, 'प्रिय अफरीदी, चूंकि आप ऐसा शांतिपूर्ण जम्मू- कश्मीर देखना चाहते हैं जहां मानवाधिकारों का कोई उल्लघंन ना होता हो, कृपया आप इस बात पर ध्यान देंगे कि पाकिस्तानी आतंकी घुसपैठ बंद कर दें और उनके प्रशिक्षण शिविर बंद कर पाक सेना अलगाववादियों की मदद करनी रोक दे। इससे समस्या के हल में बड़ी मदद मिलेगी।'

पूर्व कप्तान कपिल देव ने कहा कि अफरीदी की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया नहीं दी जानी चाहिए। उन्होंने मुंबई में कहा, 'मेरे पास उसके लिए कोई समय नहीं है। वह कौन है?  हम उसे महत्व क्यों दे रहे हैं। हमें इस तरह के लोगों को महत्व नहीं देना चाहिए। अगर दुनिया के एक कोने में बैठा कोई व्यक्ति कुछ कहता है तो मुझे लगता है कि सबसे अच्छा होगा कि इस पर प्रतिक्रिया न दी जाए।'

शाहिद अफरीदी ने कश्मीर मुद्दे पर एक ट्वीट किया था, जिसपर गंभीर ने करारा जवाब देते हुए कहा कि कश्मीर की मौजूदा स्थिति पर अफरीदी का ट्वीट और संयुक्त राष्ट्र( यूएन) को लेकर उनका संदर्भ उनके 'आयु वर्ग' के मुताबिक है। गंभीर ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'मीडिया ने हमारे कश्मीर और @UN पर @SAfridiOfficial के ट्वीट पर प्रतिक्रिया मांगी। कहने के लिए क्या है। अफरीदी की नजरें @UN पर हैं जो उसकी मंदबुद्धि वाले शब्दकोश के अनुसार अंडर-19  है जो उसका आयु वर्ग है। मीडिया आराम कर सकता है क्योंकि @SAfridiOfficial नोबॉल पर विकेट लेकर खुशी मना रहे हैं।'

इससे पहले अफरीदी ने ट्वीट किया था, 'भारत अधिकृत कश्मीर में मौजूदा स्थिति चिंताजनक और भयानक है। दमनकारी शासक दृढ़ संकल्प और स्वतंत्रता की आवाज को दबाने के लिए निर्दोर्षों को गोली मार रहे हैं। हैरान हूं कि @UN और अन्य अंतरराष्ट्रीय संस्थाएं कहां हैं और वे इस खूनी खेल को रोकने के लिए प्रयास क्यों नहीं करते।'

विदेश