नई दिल्ली : सोशल मीडिया वेबसाइट फेसबुक (facebook) के डाटा चोरी मामले में फंसने पर सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने फेसबुक को कड़ी चेतावनी दी है. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि फेसबुक की तरफ से गलत तरीके से भारत की चुनावी प्रक्रिया को प्रभावित करने के किसी भी प्रयास को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा. उन्होंने कहा कि यदि जरूरत पड़ी तो फेसबुक जैसे सोशल मीडिया मंचों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. सरकार पूरी तरह से मीडिया, बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता और साथ ही सोशल मीडिया पर विचारों के आदान- प्रदान का समर्थन करती है.

कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया
केंद्रीय मंत्री ने फेसबुक के साथ ही कांग्रेस को भी आड़े हाथों लिया. उन्‍होंने एक खबर का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस का 'कैम्ब्रिज एनालिटिका' से प्रेम क्यों है? कांग्रेस इसका उपयोग क्‍यों कर रही है? इस संगठन की राहुल की सोशल मीडिया प्रोफाइल में क्या भूमिका है? क्‍या कांग्रेस अब चुनाव जीतने के लिए डाटा चोरी का इस्‍तेमाल करेगी? क्‍या सेक्स, स्लीज और फेक न्यूज के रास्ते को अपनायेगी जैसा कि कैंब्रिज एनालिटिका ने किया?

डाटा चोरी होने का असर फेसबुक के शेयर पर
उन्होंने यह भी कहा कि पिछले दिनों में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के ट्विटर फॉलोअर तेजी से बढ़े हैं. फेक फॉलोअर बढ़ाने के लिए इसका इस्तेमाल हुआ. पीएम कहते हैं कि डिजिटली कनेक्ट और फिजिकली कनेक्ट रहें, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है. इससे पहले करोड़ों यूजर्स का डाटा चोरी होने की खबरों का असर फेसबुक के शेयरों पर पड़ा. जुकरबर्ग की कंपनी ने एक दिन में 6.06 बिलियन डॉलर यानी करीब 395 अरब रुपए गवां दिए.

सहयोगी संगठनों के साथ फेसबुक के 403 मिलियन से अधिक के शेयर जुकरबर्ग के पास हैं, जिनकी कीमत 68.5 बिलियन है. यही वजह है कि 35 अरब डॉलर के भारी नुकसान के बाद भी नेट वर्थ के मामले में जैफ बेजोस, बिल गेट्स और वॉरेन बफेट के बाद जुकरबर्ग दुनिया के चौथे सबसे अमीर व्यक्ति बने हुए हैं.

विदेश