खुशियों के मामले में भारतीय काफी पीछे हैं, जबकि अगर पाकिस्तानियों की बात करें तो वे भी इन मामले में भारतीयों से बेहतर है। यूनाइटेड नेशंस की ताज़ा वैश्विक खुशहाली देशों की जारी सूची में इसकी रैकिंग्स दी है।
  
11 अंक फिसलकर 133वें नंबर पर भारत
2017 के वर्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में भारत चार अंक गिरा था जबकि 2018 की ताज़ा रिपोर्ट में 11 अंकों की गिरावट हुई है। यूनाइटेड नेशंस की एनुअल ज्वॉय रिपोर्ट की 156 देशों की सूची में भारत 133वें रैंक पर है।
 
पाकिस्तान ज्यादा खुशहाल
भारतीयों की तुलना में आतंकवाद से प्रभावित पाकिस्तान ज्यादा खुशहाल है। 2018 की ताज़ा रैंकिंग्स में पाकिस्तान 5 अंक ऊपर चढ़कर 75वें पर आ गया है। लेकिन, पड़ोसियों में सिर्फ पाकिस्तान ही नहीं बल्कि आर्थिक सामाजिक तौर पर भारत से बेहतर नहीं होने के बावजूद वे सभी पड़ोसी भारतीयों से ज्यादा खुश हैं। खुशी की रैकिंग्स में बांग्लादेश, भूटान, नेपाल और श्रीलंका पड़ोसी भारत से आगे है।
 
फिनलैंड से खुशी के मामले में अव्वल
बुधवार को प्रकाशित हुई वर्ल्ड हैपीनेस रिपोर्ट में 156 देशों की सूची में खुशहाली के मामले में फिनलैंड को सबसे अव्वल रखा गया है। इसमें कई फैक्टर्स को शामिल किया गया है, जैसे- जीवित रहने की उम्र, सामाजिक समर्थन और भ्रष्टाचार।

विदेश