चैत्र शुक्ल प्रतिपदा 18 मार्च 2018 से हिन्दू नववर्ष शुरू होने जा रहा है। जयोतिषाचार्यों के अनुसार, इस बार विरोधकृत संवत्सर होगा जिसके राजा सूर्य और मंत्री शनि होंगे।

सूर्य के मंत्रिमंडल को देखा जाए तो इस बार समय पर बारिष होगी और पूरे देश में अच्छी पैदावार होगी। बाजार में तेजी होगी और व्यापार में उन्नति होगी। शनि न्याय के देवता हैं इसलिए उनके मंत्री बनने से भ्रष्टाचार और अनैतिक कार्यों पर लगाम लगेगी। वहीं सूर्य का राजा होने से भ्रष्ट और निकम्मे अधिकारियों पर गाज गिरेगी।

हिन्दू पंचाग में माना जाता है कि चैत्र नवरात्रि के पहले दिन के दिवस अधिपत ही साल का राजा होता है। इस प्रकार से इस बार नवरात्रि रविवार से शुरू हो रही हैं ऐसे में इस नववर्ष के राजा सूर्य होंगे।

सूर्य के मंत्रिमंडल की बात करें तो शनिदेव के अलावा अन्य मंत्री व विभाग इस प्रकार होंगे-
सस्येश-  चंद्रमा
धान्येश-  सूर्य
मेघेष-  शुक्र
दुर्गेश -  शुक्र
रसेश -  बुध
नीरसेश -  चंद्र
फलेश -  गुरु
धान्येश - चंद्र हैं।

कुल मिलाकर कहा जाए तो इस बार उत्तम समय रहेगा। समय पर वर्षा होगी और चारो ओर खुशहाली नजर आएगी। न्याय व्यवस्था में जनमानस का विश्वास बढ़ेगा।

विदेश