जबलपुर। आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर ने भक्तों को संबोधित करते हुए कहा कि जीवन भाग्य और कर्म का मेल है। आप साधना करते जाओगे तो आपका भाग्य बढ़ता जाएगा। हमारी आत्मा शीशे के समान है और उसमें परमात्मा बसते है।

इससे पहले संस्कारधानी जबलपुर में सुबह 10 बजे श्रीश्री रविशंकर जी का आगमन हुआ। श्रीश्री बालाघाट से हेलीकॉप्टर से जबलपुर कृषि मंत्री श्री गौरीशंकर बिसेन के साथ आए। इस अवसर पर दुमना विमानतल पर उनकी अगवानी महाधिवक्ता श्री पुरुषेन्द्र कौरव, कलेक्टर श्री महेश चंद्र चौधरी, एस पी श्री शशिकांत शुक्ला, श्री कैलाश गुप्ता, आर्ट ऑफ लिविंग राज्य मीडिया प्रभारी ऋतु राज असाटी, आशीष पटेल, सुनिला पवार, और वॉलंटियर हितेश नागदेव और मन्वन्तर वर्मा ने अगवानी की।

पिछली बार 11 साल पहले राइट टाउन स्टेडियम में उनका यादगार कार्यक्रम हुआ था। उसके बाद अब आगमन हुआ है। इस बार मुख्य कार्यक्रम 8 मार्च को सायं 5.30 बजे से रात्रि 8.30 बजे तक जबलपुर के गोलबाजार शहीद स्मारक प्रांगण में आयोजित होगा। जिसे लेकर सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई हैं। गोलबाजार दुल्हन की तरह सज गया है। मुख्य पंडाल की छटा देखने लायक हैं कुर्सियों के बीच का खाली-स्पेस आवाजाही के लिए निर्धारित किया गया है। चारों तरफ पुख्ता इंतजाम देखे जा सकते हैं।

बुधवार को आयोजन समिति के अध्यक्ष मध्यप्रदेश के महाधिवक्ता पुरुषेन्द्र कौरव और अपैक्स मेम्बर कैलाश गुप्ता ने प्रेस कॉफ्रेंस में उक्त जानकारी दी। इस दौरान स्टेट टीचर कोऑर्डिनेटर आशीष पटैल, प्रशिक्षक एवं राज्य मीडिया प्रभारी ऋतुराज असाटी और हितेश परमार मौजूद रहे। आयोजन समिति अध्यक्ष एजी श्री कौरव ने बताया कि 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के उलक्ष्य में अधिक से अधिक मातृशक्ति को कार्यक्रम का हिस्सा बनाने विशेष व्यवस्था की गई है।

इसके अलावा शहर के विशिष्ठ धार्मिक, सामाजिक और सांस्कृतिक संस्थाओं के लोग शामिल होंगे। महासत्संग में शिक्षा, स्वरोजगार, नारी सशक्तिकरण, स्वनिकाय, समाजसेवा, रोजगारोन्मुखी सहित अन्य क्षेत्रों में काम करने वाली उत्कृष्ट प्रतिभाएं और मातृशक्तियां श्री श्री रविशंकर के सानिध्य का लाभ अर्जित करेंगी। इस दौरान भजनों की विशेष प्रस्तुति देने गुजरात से सुप्रसिद्घ भजन गायक गौतम दबीर का भी जबलपुर आगमन हो रहा है।

17 टीमों ने संभाली व्यवस्था-

आयोजन को लेकर आर्ट ऑफ लिविंग संस्था द्वारा 17 टीमें बनाई गई हैं। ये टीमें ट्रैफिक, देवी-पूजन के साथ ही बैठक-व्यवस्था संभालेंगी। कार्यक्रम में प्रदेश के अलग-अलग शहरों से अनुयायी जबलपुर आ रहे हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र और छत्तीसगढ़ से काफी संख्या में अनुयायी शहर पहुंच चुके हैं। इससे कार्यक्रम की विराटता का पूर्वानुमान लगाया जा सकता है।

तीन गेट नंबरों से प्रवेश और पार्किंग की व्यवस्था- इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए 1,2 और 3 नंबर के गेट से गोलबाजार में प्रवेश किया जा सकेगा। डॉ.जामदार हॉस्पिटल के सामने वाला गेट नंबर-3 वीवीआईपी के लिए आरक्षित है। ओमेगा हॉस्पिटल के सामने वाला गेट नंबर-2 वीआईपी के लिए आरक्षित है, जबकि रानीताल चौराहे वाले गेट नंबर-1 से जनसामान्य प्रवेश कर सकेगा।

बच्चो और बुजुर्गों के लिए ई-रिक्शा का इंतजाम किया गया है। पेयजल और चलित शौचालय की जिम्मेदारी नगर निगम जबलपुर ने ली है। डीएनजैन, महाकोशल, अंजुमन स्कूल और चंचलाबाई कॉलेज परिसरों में पार्किंग की व्यवस्था की गई है। इसके लिए यातायात पुलिस मुस्तैद हो गई है।

एयरपोर्ट से गोलबाजार तक की गई मॉकड्रिल-

मुख्य कार्यक्रम से एक दिन पूर्व 7 मार्च को एयरपोर्ट से लेकर कार्यक्रम स्थल गोलबाजार तक ठीक वैसी ही मॉकड्रिल की गई, जैसा कार्यक्रम होना है। इस दौरान प्रत्येक चरण को बड़ी बारीकी से निरीक्षित और परीक्षित किया गया। किसी तरह की कोई गड़बड़ी न हो इसे लेकर पुलिस प्रशासन पूरी तरह चाक-चौबंद है।

कल कचनार क्लब में होगा देवी पूजन-

9 मार्च को सुबह 9.30 से 10.30 बजे तक विजय नगर स्थित कचनार क्लब में देवी-पूजन का आयोजन किया जाएगा। इसमें बेंगलुरू स्थित आर्ट ऑफ लिविंग अंतर्राष्ट्रीय केन्द्र से वेदाचार्य विशेष रूप से जबलपुर आएंगे। उल्लेखनीय है कि श्री श्री प्रत्येक शुक्रवार को देवी-पूजन करते हैं। विश्व में वे जहां भी रहते हैं, इस दिन ललिता सहस्त्रनाम के साथ देवी-पूजन अवश्यक करते हैं। यही क्रम जबलपुर में शुक्रवार को जारी रहेगा।

विदेश